Uncategorized

समाधान – आपकी बात अपनों के साथ | 23.05.2021



प्रजापिता ब्रह्माकुमारीज़ ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा ऑनलाईन कार्यक्रम का आयोज किया गया | जिसका विषय था
समाधान – आपकी बात अपनों के साथ

इस ऑनलाइन कार्यक्रम में मुख्य रूप से डॉ.स्वाति जोशी (एम्.बी.बी.एस, एम.एस.), बी.के. ज्योति दीदी(वरिष्ठ राजयोग प्रशिक्षिका), बी.के. प्रह्लाद उपस्थित रहे|
कार्यक्रम के शुभारम्भ में ब्रह्माकुमार प्रहलाद भाई ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि यदि तन और मन को स्वस्थ रखना है तो हमें अपने विचारों पर नियंत्रण रखना होगा | अगर हमारे मन में व्यर्थ विचार आ रहे तो उसका हमारे जीवन पर भी प्रभाव पड़ेगा | जीवन में परिस्थितियां तो आयेंगी परन्तु हर परिस्थिति में अपनी सोच को समर्थ बना लिया जाय | तो जीवन को बेहतर ढंग से जिया जा सकता है |
इसके तत्पश्चात डा स्वाति जोशी ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय भय का वातावरण चारो ओर व्याप्त हो गया है और इस डर के माहौल से निकलना हमारे लिए अति आवश्यक हो गया है क्योंकि डर ही अपने आप में बहुत सारी बीमारियों को जन्म देता है तो इस डर से निकलने के लिए उन्होंने दो चीजें बताई की एक तो ईश्वर के ऊपर विश्वास और दूसरा स्वस्थ मन और सजगता से हम किसी भी बीमारी को अपने पास नही आने देंगे और थोडा समय अपने लिए प्रतिदिन निकाले जिसमे तन को स्वस्थ्य रखने के लिए प्राणायाम और एक्सरसाईज आदि करें और मन के लिए राजयोग ध्यान का अभ्यास करें,
और उन्होंने अपने अनुभव के आधार से बताया कि कोई भी परेशानियाँ अगर आ भी रही है तो अपने मन को शांत रखे तो आप आसानी से उस परेशानी का रास्ता निकाल पाएंगे | इसके साथ ही कई सारे श्रोताओं ने स्वास्थ्य से सम्बंधित प्रशन भी पूंछे जिसका उन्होंने बहुत सुन्दर रीति सभी को जबाब दिया | और सभी से अनुरोध किया कि मास्क अवश्य पहनें आवश्यक हो तो ही घर से वाहर निकलें अपना और अपने परिवार का धयान रखें है | स्वास्थ्य सम्बंधित कोई परेशानी होने पर अपने डॉक्टर से सलाह लें | फेक संदेशो से सावधान रहें | और अपनी बारी आने पर वैक्सीन भी अवश्य लगवायें है |
कार्यक्रम में बी.के ज्योति दीदी ने अपने विचार रखते हुए बताया कि हर व्यक्ति को थोडा समय ध्यान (मैडिटेशन) अवश्य करना चाहिए | इससे हम पूरा दिन शांत और खुश रह सकते है | आज अधिकतर लोगों ने अपना रिमोट कण्ट्रोल परिस्थिथि के हाथो में दे दिया है | जीवन में परिस्थियाँ तो आएँगी ही लेकिन उनसे घबराना नहीं चाहिए | बल्कि आप अच्छा क्या कर सकते है वह करें बांकी सब ईश्वरपर छोड़ दें तो सब अच्छा हो जायेगा| हर परिस्थिति में हमें सकारात्मक ही सोचना चाहिए क्योकि सोच का प्रभाव हमारी मानसिक और शारीरिक हेल्थ पर पड़ता है साथ ही आस पास के वायुमंडल पर भी पडता है | तो हम मन को सही स्थान पर लगाये मन को खाली न छोड़े उसे अच्छी जगह पर व्यस्त कर दे तो वह स्वत: ही सही सोचने लग जायेगा | इसके साथ ही दीदी ने सभी को मैडिटेशन कराया |
कार्यक्रम का कुशल संचालन बी.के. प्रहलाद भाई ने किया तथा अंत में सभी का आभार भी माना

Source: BK Global News Feed

Comment here