Uncategorized

अपनी संकल्प शक्ति का सदुपयोग ही हमारे जीवन में एकाग्रता एवं सुख शातिं प्रदान करेगा

जिला मुख्यालय के सभी न्यायाधीशगण हेतु ‘तनाव मुक्ति एवं एकाग्रता’ कार्यशाला सम्पन्न

नीमच, दि. 23.मार्च-21   विश्व विख्यात मोटिवेशनल स्पीकर मानस मर्मज्ञ महर्षि, संकल्प सिद्ध योगी, राजऋषि ब्रह्माकुमार बी.के.सूर्य भाई के संक्षिप्त नीमच प्रवास पर जिला मुख्यालय के सभी सम्माननीय न्यायाधीशगण हेतु ‘तनाव मुक्ति एवं एकाग्रता’ कार्यशाला का आयोजन रात्रि 8 से 10 बजे तक ब्रह्माकुमारी संस्थान के विशाल सद्भावना सभागार में आयोजित किया गया । इस कार्यशाला का शुभारंभ बी.के.सूर्य भाई जी, जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री हृदये

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

श श्रीवास्तव, माउण्ट आबू से पधारी बी.के.गीता बहन एवं राजयोगी रूपेश भाई के साथ ही बी.के.सविता दीदी एवं बी.के.सुरेन्द्र भाई ने विश्व शांति की कामना से दीप प्र‚ज्जलित करके किया ।

कार्यक्रम की प्रथम वक्ता, साहित्य सृजक एवं तनाव मुक्ति विशेषज्ञा बी.के.गीता बहन ने अपने उद्बोधन में बताया कि सारी समस्याओं की जड़ हमारा नकारात्मक एवं व्यर्थ चिन्तन है यदि प्रात: काल जागते ही हम केवल 5-7 मिनिट प्रभु का ध्यान कर व उनसे दिन भर अपने साथ रहने की कामना के साथ यदि हम दिनचर्या का प्रारंभ करें तो आप दिन भर में अनेक सुखद परिणाम प्राप्त करेंगे तथा रात्रि को सोते समय केवल 10 मिनिट मेडिटेशन कर सर्वशक्तिवान परमात्मा के सामने अपना दिन भर का चार्ट रखकर उनके सानिध्य में निद्रा मग्न होंगे तो हमारी निद्रा एवं प्रात: जागरण अति सुखद व आनन्द मय होगा । किन्तु जरूरत है कुछ आध्यात्मिक प्रशिक्षण की जिससे हम अपनी संकल्प शक्ति जिसमें की एक जबरदस्त रचनात्मक उर्जा छिपी हुई है का सदुपयोग कर सकें । आध्यात्मिकता से तुरंत परिणाम मिलते हैं यदि केवल हम 5-7 चुनिंदा श्रैष्ठ विचारों का मनन चिंतन करके लगातार उन्हें दोहराना शुरू कर दें तो उसके चमत्कारी परिणाम प्राप्त होंगे ।

कार्यक्रम के अन्य वक्ता, आध्यत्मिक टेलिफिल्मों के कलाकार एवं लोकप्रिय टी.वी.एंकर बी.के.रूपेश भाई ने आध्यात्म की गहन विविधताओं को सहज करके समझाया एवं बताया कि यदि हम अंर्तमुखी होकर अपने अंतर की गहराईयों को एक छोटे आध्यात्मिक प्रशिक्षण के माध्यम से समायोजित करना सीख लें तो जीवन की सर्व समस्याओं का हल सहज मिल जाएगा । आपने एक सुंदर कोटेशन के द्वारा आध्यात्म की महत्ता बताई – “”मैं भीतर गया…  मैं  भी  तर  गया…” रनिंग कॉमेन्ट्री द्वारा मेडिटेशन के विशेषज्ञ रूपेश भाई इस विषय में विश्व विख्यात हैं ।

कार्यक्रम के प्रमुख वक्ता बी.के.सूर्य भाई ने कुछ तनावमुक्ति व आध्यात्म के टिप्स देकर रनिंग कॉमेन्ट्री द्वारा शक्तिशाली समर्थ संकल्प देकर सभी को मेडिटेशन करवाकर तनावमुक्ति एवं गहन सुख-शांति की अनुभूति करवाई । आपने आने वाली परिस्थितियों से अवगत करवाते हुए बताया कि कोरोना महामारी तो कुछ भी नहीं अब अधिकतर मनुष्य अपने नकारात्मक सोच, व्यर्थ चिंतन एवं पापों में वृद्धि के कारण ‘डिप्रेशन’ महामारी के शिकार होंगे और आने वाले कुछ वर्षों में विश्व की 25% आबादी डिप्रेशन की शिकार होगी तथा सुसाईड केस बहुत तेजी से बढ़ते जाऐंगे । यहीं हमें संभलना होगा, अपने निगेटिव विचार और आत्म विश्वास की कमी को नगण्य न समझकर बहुत गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि हम अपने जीवन को खुशहाल बना सकें । करना बहुत ज्यादा कुछ नहीं है… केवल अपने आप के ‘आत्म स्वरूप’ को पहचानकर अपनी संकल्प शक्ति को सकारात्मक और शक्तिशाली बनाकर न केवल खुद हम अपना बचाव कर सकते हैं अपितु अनेकानेक लोगों को राह दिखाकर उनकी रक्षा भी कर सकते हैं, आपने कुछ उदाहरण देकर समझाया कि – पानी की ग्राह्य शक्ति सर्वाधिक संवेदनशील होती है यदि हम पानी पीने से पूर्व केवल कुछ सेकेण्ड अपने शक्तिशाली एवं समर्थ सकारात्मक संकल्पों से पानी को चार्ज करना सीख लें तो भी हमारा स्वास्थ्य एवं स्वस्थिति आनन्दमय हो सकती है । क्योंकि शरीर का 70% भाग पानी से संचालित है । अत: इसपर गंभीरता पूर्वक ध्यान देने की आवश्यकता है ।

कार्यक्रम के अंत में अनेक न्यायाधीशगण ने प्रश्नोत्तर द्वारा अपनी शंका समाधान की । कार्यक्रम का संचालन बी.के.सुरेन्द्र भाई ने एवं आभार प्रदर्शन बी.के.सविता दीदी ने किया । इस पूरे कार्यक्रम में सैनेटाईजिंग, सोश्यल डिस्टेंसिंग एवं मास्क के प्रयोग का पूरा ध्यान रखा गया । इस कार्यक्रम में जिला जज श्री हृदयेश श्रीवास्तव के नेतृत्व में फैमिली कोर्ट जज श्री अखिलेश शुक्ला, स्पेशल जज श्री विवेक श्रीवास्तव, ए.डी.जे. श्री अजय सिंह ठाकुर, ए.डी.जे.श्री संजय जैन, ए.डी.जे.श्री विवेक कुमार, मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी श्री विवेकानन्द त्रिवेदी, डिस्ट्रीक रजिस्ट्रार श्री सदाशिव दांगड़े, सिविल जजगण श्री एम.एस. दहलवी, श्री डॉ. मनोज गोयल, कुमारी स्वाति कौशल  एवं कुमारी प्रमिला रॉय सहित अनेक परिवार भी सम्मिलित हुए । अंत में स्वल्पाहार के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ तथा सभी ने ग्रुप फोटो सेशन भी करवाया ।

Source: BK Global News Feed

Comment here