Uncategorized

सर्व सुख सर्वोपरी – चिकित्सकों के लिए राजयोग ध्यान पर एक कार्यक्रम

ग्वालियर: महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में विशेष ग्वालियर शहर के सभी चिकित्सकों के लिए राजयोग ध्यान पर एक कार्यक्रम डॉ. शिव शंकर एवं डॉ. साधना शंकर ने निज निवास (डॉ. अजय शंकर निवास, मेडिकल कॉलेज के पीछे चंद्रवदनी नाका रोड) पर आयोजित किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. एस. एन. आयंगर, विशेष अतिथि ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान लश्कर ग्वालियर की संचालिका बी.के. आदर्श दीदी, बी.के. डॉ. गुरचरण सिंह, बी.के. प्रहलाद भाई
मौजूद थे। इसके अलावा कार्यक्रम में डॉ. एस. आर. अग्रवाल (पूर्व डीन), डॉ. बीना अग्रवाल (पूर्व डीन), डॉ. शैला सप्रे (पूर्व डीन), डॉ. जे एस. नामधारी सहित शहर के 100 से भी अधिक वरिष्ठ चिकित्सक विशेष रूप से उपस्थित रहे।
कार्यक्रम का शुभारम्भ विधिवत दीप प्रज्वलन के साथ किया गया |
तत्पश्चात बी.के.प्रहलाद ने स्वागत भाषण प्रस्तुत किया ।
इसके बाद कार्यक्रम का उद्देश्य बताते हुए डॉ. शिव शंकर ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि सबसे बड़ा धर्म सर्व सुख सर्वोपरी अर्थात सबको सुखी रखना और निःस्वार्थ भाव से सभी की सेवा करना।
आजकल मानसिक रोग चिंता, डिप्रेशन, तनाव, रात जो नींद न आना से अनेकानेक रोग बढ़ते जा रहे है । उसका सबसे अच्छा उपाय है । इसका सबसे अच्छा उपाय है मनुष्य को अपना कर्म करना चाहिए फल की इच्छा नही करनी अगर हम ईमानदारी से अपना काम करें झूंठ न बोले, किसी के प्रति ईर्ष्या द्वेष न रखें, क्रोध न करें तो हमें ईश्वर की मदद मिलती है।

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रुप में पधारे बी.के. डॉ. गुरचरण भाई ने सभी को राजयोग ध्यान के वारे में विस्तार से बताया और कहा कि राजयोग ध्यान एक बहुत ही सरल और सहज प्रक्रिया है जिसे कोई भी कर सकता है । राजयोग ध्यान में हम मन के द्वारा श्रेष्ठ चिंतन करते है और बुद्धि के द्वारा उस चिंतन को विजुलाइज (चित्रण)करते है। इसमें हम अपने मन की तार को उस सर्वशक्तिमान परमात्मा निराकार शिव से जोड़ते है जो पूरी दुनिया को प्रकाश दे रहा है शक्ति दे रहा है उसकी याद में हर कर्म करने से हमें सफलता मिलती है और हम हर प्रकार की नकारात्मकता से बचे रहते है बस जरूरत है तो उसको यथार्थ रीति जानकर याद करने की। उन्होंने कहा कि दुनिया मे बहुत प्रकार के योग है हर योग का अपना महत्व है । लेकिन राजयोग सभी योगों का राजा है जो हमें परमात्मा से जोड़ता है और हमारी कर्मेन्द्रियों पर हमें नियत्रंण सिखाता है ।
इसके साथ ही कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पधारे डॉ. एस. एन. आयंगर ने अपनी शुभकामनाएं रखते हुए कहा कि योग की महतत्वता को आज सभी समझनें लगे है । इस पर सभी को ध्यान और देने की आवश्यकता है योग हमें तन से और मन से स्वस्थ रखने में मदद करता है।
इसके तत्पश्चात बी.के.आदर्श दीदी ने अपने आशीर्वचन देते हुए कहा कि आज हर व्यक्ति बहुत व्यस्त हो गया है और अपने को उतना समय नहीं दे पाता जितना देना चाहिए। अगर वह प्रतिदिन अपने को समय देता है अपने आप से बात करता है ईश्वर से बात करता है तो वह जीवन में ज्यादा सुख का अनुभव कर सकेगा। ईश्वर ने सभी को बहुत सुंदर जीवन दिया है सारी सुख सुविधायें दी है । बस जरूरत है ईश्वर का धन्यवाद करते हुए सुंदर जीवन जीने की ।
राजयोग ध्यान इसमें बहुत मदद करता है । तो सभी राजयोग ध्यान का अभ्यास करें और अपने जीवन को सुंदर बनाएं।
कार्यक्रम के अंत मे डॉ साधना शंकर ने सभी को ध्यान का वैज्ञानिक रीति से महत्व बताते हुए प्रेक्टिकल राजयोग ध्यान का अभ्यास सभी को कराया।

मंच का कुशल संचालन बी. के. प्रहलाद भाई द्वारा किया गया | तथा सभी का आभार डॉ. शिव शंकर द्वारा किया गया ।

Source: BK Global News Feed

Comment here