Uncategorized

Indore- ओमशांति भवन इंदौर में महाशिवरात्रि पर्व के साप्ताहिक कार्यक्रम का शुभारम्भ- Inauguration of the weekly program of Maha Shivaratri festival

प्रेम एवं सद्भावना को अपनाकर परस्पर एकता लाना – यही शिवरात्रि का संदेश  है
      शंकर लालवानी -सांसद, इंदौर
 
इंदौर, 7 मार्च,2021। महाशिवरात्रि भगवान शिव का यादगार पर्व है। जिसे पूरे भारत में बड़ी श्रृद्धा और आस्था के साथ मनाया जाता है। साथ ही यह पर्व हमें जीवन में आपसी सद्भाव और प्यार से रहने का संदेश भी देता है। हम सब जानते हैं कि शिव की बारात में कैसे विभिन्न मत-मतांतर, विपरीत स्वभाव संस्कार वाले होते भी सब बड़ी एकता के साथ चलते हैं। तो आज यही दृढ़ संकल्प ले कि हम आपसी वैर विरोध, नफरत, घृणा को छोड़कर सभी के साथ सद्भावना और प्रेमपूर्ण व्यवहार करेंगे।
उक्त विचार इंदौर के लोकसभा सांसद भ्राता शंकर लालवानीओमशांति भवन ज्ञान शिखर के ’’ब्रह्माकुमार ओमप्रकाश  भाईजी’’ सभागृह में महाशिवरात्रि के अवसर पर आयोजित ’’परमात्म अवतरण द्वारा दैवी संस्कृति की स्थापना’’ विषय पर व्यक्त कियें। उन्होंने कहां कि वर्तमान चुनौतियों का सामना करने के लिए जीवन में शक्ति की आवश्यकता है, और वह शक्ति हमें शिव से ही प्राप्त हो सकती हैं। क्योंकि शिव देवों के देव महादेव हैं।
अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में इंदौर जोन की मुख्य क्षेत्रीय समन्वयक ब्रह्माकुमारी हेमलता दीदी ने कहा कि दैवी सृष्टि बनाने के लिए दैवी संस्कृति चाहिये। संस्कृति किसी समाज में गहराई तक व्याप्त गुणों के समग्र स्वरुप का नाम हैं , जो उस समाज के सोचने , विचारने , कार्य करने के स्वरुप में अन्तर्निहित होता हैं | संस्कृति में संस्कारों को परिष्कृत किया जाता हैं और संस्कार परिवर्तन का कार्य स्वयं ज्ञान सागर निराकार परमात्मा शिव आकर कर रहे हैं।
कार्यक्रम में क्षेत्र क्रमांक 5 के विधायक महेन्द्र हार्डिया ने कहां कि भारतीय संस्कृति महान है जिसको सभी ने स्वीकार किया है। क्योंकि भारतीय संस्कृति कोई न कोई वैज्ञानिक तथ्य को लिये हुए है। सभ्य संस्कृति ही मन को सुकुन देती है।
कालानी नगर क्षेत्र  प्रभारी ब्रह्माकुमारी जंयति दीदी ने कहां कि संसार को विकृति से बचाना है तो दैवी संस्कृति को अपनाना होगा। परमात्मा आकर मानव को ऐसी शिक्षा  देते जिससे मानव का सब कुछ देवत्व में बदल जाता है और सम्पूर्ण सृष्टि पर दैवी संस्कृति आ जाती है।
शक्ति निकेतन छात्रावास की संचालिका ब्रह्माकुमारी करूणा दीदी ने कहा कि हमारा मन अनंत और अपार शक्तियों का स्वामी हैं। जब यह मन उस सर्वशक्तिमान परमात्मा से जुड़ जाता है तो उसकी शक्तियां जागृत हो जाती है। यही राजयोग है। आपने राजयोग के अभ्यास द्वारा गहन शांति की अनुभूति कराई।
सुभाषनगर क्षेत्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी ममता दीदी ने सभा में उपस्थित जन समुदाय को स्वार्थ भाव त्याग कर निःस्वार्थ भाव अपनाने की प्रतिज्ञा करवाई। कु. प्रतिक्षा ने शिव अराधना पर मनमोहक नृत्य की प्रस्तुति दी एवं कु. निधि शर्मा ने शिव  स्तुति  गीत सत्यम् शिवम् संुदरम् गाकर दर्शकों  को शिव  के प्रेम में सराबोर कर दिया। कार्यक्रम का सफल संचालन प्रेमनगर क्षेत्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी शशि दीदी ने किया।
इस अवसर पर पूर्व महापौर डाॅ. उमाशशि  शर्मा आदि शहर के अनेक गणमान्य उपस्थित थे, जिन्होंने दीप जलाकर कार्यक्रम में सहभागिता की। अंत में सभी ने शिवध्वज फहराकर अपनी बुराईयों को शिव  पर अर्पण करने का संकल्प लिया।
इस अवसर पर ज्ञान शिखर प्रांगण में 11 मार्च तक द्वादश ज्योर्तिलिंग दर्शन झांकी सजाई गई है, जिसका प्रतिदिन शाम 5 से रात्रि 9 बजे तक दर्शन  किया जा सकता है।

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 50%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

Source: BK Global News Feed

Comment here