Uncategorized

सकारात्मक सोच के साथ करें हर कार्य – ब्र.कु. मंजू दीदी

सादर-प्रकाशनार्थ
प्रेस-विज्ञप्ति
सकारात्मक सोच के साथ करें हर कार्य – ब्र.कु. मंजू दीदी
किसी भी तकलीफ में मन को सकारात्मक बनाना सबसे पहला कार्य हो…

‘बढ़ते कदम स्वास्थ्य की ओर’ निःषुल्क ऑनलाइन स्वास्थ्य शिविर का पहला दिन

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

बिलासपुर टिकरापारा :- हम दिनभर में बहुत से कार्य करते हैं चाहे वह आसन-प्राणायाम हो, कर्मक्षेत्र पर कोई निर्णय लेने का कार्य हो, भोजन करना, कार्यालयीन कार्य या अन्य कोई भी कार्य हो, हमें उस कार्य को करने से पहले मन में उस कार्य के प्रति सकारात्मक भाव लाना जरूरी है। आधी सफलता तो सकारात्मक सोच से ही मिल जाती है क्योंकि आधार मजबूत हो जाता है। हम शारीरिक या मानसिक तकलीफ में जो विधि अपनाते हैं उसमें परिवर्तन की आवश्यकता है। किसी भी रोग के लिए सबसे पहले सकारात्मक सोच के साथ राजयोग ध्यान, प्राणायाम, आसन, एक्यूप्रेषर, घरेलू चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा का प्रयोग करें। तत्पष्चात्  आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक, एलोपैथिक इलाज को रखें। ज्यादातर यही होता है कि हम कुछ भी छोटी-मोटी बीमारी के लिए दवाइयां ले लेते हैं। इससे रोग प्रतिरोधी क्षमता कम हो जाती है। जबकि हमारे किचन में या हमारे आसपास ही ऐसे उपाय होते हैं जिससे वह हल्की-फुल्की बीमारियां दूर कर सकते हैं। हालांकि एक्सीडेंटल केस व इमरजेंसी चिकित्सा के लिए एलोपैथी चिकित्सा ही सर्वोत्तम है।
उक्त बातें सोशल मीडिया के माध्यम से ऑनलाइन स्वास्थ्य शिविर – ‘बढ़ते कदम स्वास्थ्य की ओर’ को संबोधित करते हुए ब्रह्माकुमारीज़ टिकरापारा सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्र.कु. मंजू दीदी जी ने कही। आपने आज नए साधकों के अनुसार भस्रिका, कपालभाति एवं अनुलोम प्राणायाम की विधि सिखाई और कहा कि किसी भी अन्य प्राणायामों के समय न मिले तो कम से कम कपालभाति व अनुलोम-विलोम प्राणायाम के लिए 15 से 20 मिनट जरूर समय निकालें। भोजन के आधे एक घण्टे के पश्चात् आप भस्रिका व अनुलोम-विलोम प्राणायाम कर सकते हैंव वज्रासन में बैठ सकते हैं बाकी अन्य आसन व प्राणायाम खाली पेट ही करें। अभ्यास करते समय खांसी, छींक आदि शरीर के किसी भी प्रकार के वेग को न रोकें।
आज कार्यक्रम का शुभारम्भ बहनों ने दीप प्रज्ज्वलन करके किया। आसनों के अभ्यास के प्रदर्शन के लिए दीदी जी के साथ मास्टर योग प्रशिक्षक बी.के. पूर्णिमा बहन व राकेश भाई उपस्थित रहे।
भ्राता सम्पादक महोदय,
दैनिक………………………..
बिलासपुर (छ.ग.)

Source: BK Global News Feed

Comment here