Uncategorized

हमारे श्रेष्ठ कर्मों से ही आएगा श्रीकृष्ण का युग – ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी

सादर प्रकाषनार्थ
प्रेस विज्ञप्ति
हमारे श्रेष्ठ कर्मों से ही आएगा श्रीकृष्ण का युग – ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी
हमारे ही बुरे कर्मों से कलियुग बनी है दुनिया…
ब्रह्माकुमारीज़ टिकरापारा में दोनों दिन मनाया जा रहा है जन्माष्टमी का पर्व
कार्यक्रम में साधक हुए आॅनलाइन शामिल व लिया सत्संग का लाभ

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

बिलासपुर, टिकरापाराः- श्रीकृष्ण स्वर्णिम युग के प्रथम राजकुमार व श्रीराधा प्रथम राजकुमारी हैं। वर्तमान संगमयुग अर्थात् कलियुग के अंतिम और सतयुग की शुरूआत का समय महापरिवर्तन का समय है इसके पश्चात् जल्द ही श्रीकृष्ण की दुनिया आने वाली है और उस युग में ले जाने के लिए परमात्मा के द्वारा सिलेक्शन का कार्य चल रहा है। भगवान के श्रीमत के अनुसार जो व्यक्ति अपने को परिवर्तन कर रहा है वही उस सुख-शान्ति भरी दुनिया में जाने के योग्य है। परमात्मा ने जब सृष्टि की स्थापना की थी तब केवल आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही था। अभी समय है धरा पर अवतरित हुए भगवान को पहचानने का व उनके कहे अनुसार बुराईयों को छोड़ने का। नहीं तो समय ऐसा आएगा जो हमें बदलना ही पडे़गा। कोरोना ने भी हमें बहुत कुछ सीखा दिया। हम प्रकृति को तकलीफ देंगे तो वह भी तकलीफ ही देगी।
उक्त बातें ब्रह्माकुमारीज़ टिकरापारा में आयोजित जन्माष्टमी उत्सव के दौरान साधकों को आॅनलाइन सम्बोधित करते हुए सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी जी ने कही।
संस्कारों व गुणों से बनें श्रीकृष्ण समान सर्वांग सुन्दर…
आपने कहा कि श्रीकृष्ण का व्यक्तित्व हर एक के मन को हरने वाला है। हर मां को अपना बच्चा नयनों का तारा, अति प्यारा, दिल का दुलारा लगता है फिर भी वे श्रीकृष्ण के दर्शन के लिए तरसती हैं, उनकी झांकियां बनाती हैं, पालने में झुलाती हैं, अनेक ऐसे नामों से पुकारती हैं जिससे कि उनके प्रति स्नेह, अपनापन, आकर्षण प्रदर्शित होता है। वे उन्हें अपने बच्चे के रूप में पाना चाहती हैं। संसार में सुंदर लोग तो और भी होते हैं लेकिन आकर्षण का कारण संुदरता के साथ गुण भी होते हैं और श्रीकृष्ण की महिमा ही है कि वे सर्वगुण सम्पन्न, 16 कलाओं में संपन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी। आज संसार में सुंदर लोग तो हैं किन्तु आज के संसार पर हम नजर डालें तो कोई भी ऐसा मानव नहीं होगा जिसने क्रोध करके अपने ही मन को दुखी न किया हो, जो लोभ के दाग-धब्बों से बिल्कुल ही बचा हुआ हो या कुदृष्टि के कुठाराघात से बच गया हो। तब भला हम किसी को सर्वांग सुंदर कैसे कह सकते हैं। संस्कारों के आधार पर ही तो शरीर बनता है और कर्मफल ही तो शरीर गढ़ने के निमित्त बनते हैं। यह तो कल्पना से परे है कि वह तन कितना सुंदर होगा जिस पर कोई कुदृष्टि न पड़ी हो, काम की चोट, क्रोध का प्रहार न हुआ हो और जिसका मन सदा हर्ष में नाचता हो, होंठो पर सदा मुस्कान और नयनों में सदा शान्ति बसती हो। ऐसा सौन्दर्य श्रीकृष्ण का ही था।
हर बालक श्रीकृष्ण और हर बाला हो राधा समान…
हमारे देश का गायन था जहां डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा, जहां हर बालक श्रीकृष्ण और हर बालिका राधा के समान हो, ऐसा हमारा भारत देश था। ऐसा तभी संभव है जब हम श्रीकृष्ण के जीवन से शिक्षा लेकर अपना जीवन भी उनके समान बनाने के लिए संकल्पित होंगे। इसी संकल्प के साथ हम जन्माष्टमी मनाते हैं तो हमारा यह पावन पर्व मनाना सार्थक होगा क्योंकि हमारे ही बुरे कर्मों से यह दुनिया कलियुग बना है और अब समय है अपने को श्रेष्ठ संस्कारवान और गुणवान बनाकर पुनः स्वर्णिम दुनिया की स्थापना करना।
इस अवसर पर सेवाकेन्द्र में झांकी सजायी गयी है जिसमें 3 वर्षीय त्रिषा नायडू श्रीकृष्ण, ब्र.कु. नीता बहन यशोदा मैया के रूप में सजे थे और गौरी बहन ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। कल श्रीकृष्ण को भोग स्वीकार कराया जायेगा…

प्रति,
भ्राता सम्पादक महोदय,
दैनिक………………………..
बिलासपुर (छ.ग.)

Source: BK Global News Feed

Comment here