Uncategorized

हजारों भाई बहनो ने की राजयोग से अपना और औरों का जीवन खुशनुमा बनाने प्रतिज्ञा – बीदर में ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा

आयोजित पांच दिवसीय  प्रवचन माला समापन समारोह संपन्न हुआ। शहर के गणमान्य हस्तियों समेत कार्यक्रम के अंतिम सत्र में हजारों भाई बहनों ने शिरकत की।

आयोजित पांच दिवसीय  प्रवचन माला समापन समारोह संपन्न हुआ। शहर के गणमान्य हस्तियों समेत कार्यक्रम के अंतिम सत्र में हजारों भाई बहनों ने शिरकत की।

5 दिन में प्रतिदिन लोगों को अलग-अलग टॉपिक्स पर बीके मंजूनाथ भाई द्वारा प्रवचन दिया गया। इस कार्यक्रम में प्रतिदिन हजारों की संख्या में भाई-बहन सम्मिलित होते रहे और अंतिम दिन में सभी भाई बहनों ने राज्यों को अपने जीवन में अपनाने की दृढ़ प्रतिज्ञ की। इन 5 दिनों में वेदर में विविध क्षेत्र में विशेष रूप से समाज सेवा में अपना योगदान देने वाले करीब 150 भाई बहनों का प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की ओर से सम्मान किया गया।

कार्यक्रम में पांचवे दिन बीदर  जिला पंचायत की अध्यक्ष गीता पंडित ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा जीवन में अच्छा कार्य करने के लिए गुरु की आवश्यकता होती है। गुरु मार्गदर्शक बन सच्ची राह दिखाते हैं। यह बहने हमें सच्ची शांति, सच्ची खुशी का मार्ग प्रदर्शन कर रही है। मैं विश्वास से कहती हूं कि अगर भगवान को पाना हो, उनके दर्शन करने चाहते हो तो अवश्य एक बार  माउंट आबू जाना चाहिए। स्वर्ग का मॉडल देखना है तो अवश्य माउंट आबू जाइए।

हैदराबाद से आये उद्योजक शत्रुघ्न अग्रवालजी  ने कहा यह मेरा सौभाग्य है शिवरात्रि के उपलक्ष में आयोजित पवित्र मंच पर बहन जी ने मुझे यहां आमंत्रित किया दूसरा ऐसे समय पर जहां विश्व रिकॉर्ड हुआ हूं यहां विश्व का सबसे बड़ा समाचार पत्र का भी विमोचन हुआ है यह विशेष बात है। ऐसे मौके पर इस पवित्र मंच पर आने से मैं गर्व महसूस कर रहा हूं।

हुलसुर से आए हैं ZP मेंबर  भ्राता सुधीर कड़ादे ने कहा मैं मेरी आयु के 25 वर्ष में ही माउंट आबू होकर आया हूं। तब से लेकर मेरे मन में हमेशा ब्रह्माकुमारीज के प्रति सम्मान और सद्भाव जागृत  रहता है। मैं हर कार्य में सम्मिलित होना चाहता हूं। माउंट आबू दुनिया का  सबसे पवित्र स्थान है। जहां के पवित्र वाइब्रेशन जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाते हैं। मुझे हमेशा लगता है कि ऐसे पवित्र स्थान हर जगह होने चाहिए। हुलसुर में भी एक बड़ा सेंटर हो ऐसी मेरी इच्छा थी मुझे खुशी है वहां पर भी ऐसा स्थान बन रहा है। बीदर में भी ऐसा बड़ा स्थान हो जहां पर हजारों लोगों की  सुख शांति की प्यास बुझ सके। यहीं  मेरी शुभकामना है।

मुख्य वक्ता मंजूनाथ ने अंतिम दिन खुशनुमा जीवन  इस विषय पर मार्गदर्शन करते  कहां आज मानव भौतिक साधनों में खुशी ढूंढने में ही परेशान है गलत जगह पर खुशी को खोज कर समय और धन व्यर्थ गंवा रहा है। सदा खुश रहने से शरीर में सकारात्मक हारमोंस तैयार होते हैं। जिससे शारीरिक स्वास्थ्य ठीक रहता है मानसिक तनाव खुशी को ब्लॉक करता है। इसलिए 24 घंटे मे अपने लिए  1 घंटे देना चाहिए।यह ज्ञान  ब्रह्मा कुमारिस में निशुल्क पढ़ाया जाता है। आंतरिक खुशी को बढ़ाना हो तो  इस ईश्वरीय  ज्ञान को समझिए।

जैसे खून डोनेट करते हैं तो फ्रेश न्यू खोला जाता है कुए का पानी निकालने से फ्रेश पानी आता  है। वैसे ही खुशी देने से बढ़ती है। इसलिए हमेशा खुश रहो खुशियां बांटो। खुशी बांटने से बढ़ती है।

कार्यक्रम का मंच संचालन  बीके सरस्वती बहन ने किया।

#bwg_container1_4 { /*visibility: hidden;*/ } #bwg_container1_4 * { -moz-user-select: none; -khtml-user-select: none; -webkit-user-select: none; -ms-user-select: none; user-select: none; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_image_wrap_4 { background-color: #000000; width: 800px; height: 500px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_image_4 { max-width: 800px; max-height: 500px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_embed_4 { width: 800px; height: 500px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #bwg_slideshow_play_pause_4 { background: transparent url(“http://bk.ooo/wp-content/plugins/photo-gallery/images/blank.gif”) repeat scroll 0 0; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #bwg_slideshow_play_pause-ico_4 { color: #FFFFFF; font-size: 60px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #bwg_slideshow_play_pause-ico_4:hover { color: #CCCCCC; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_slideshow_left_4, #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_slideshow_right_4 { background: transparent url(“http://bk.ooo/wp-content/plugins/photo-gallery/images/blank.gif”) repeat scroll 0 0; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_slideshow_left-ico_4, #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_slideshow_right-ico_4 { background-color: #000000; border-radius: 20px; border: 0px none #FFFFFF; box-shadow: 0px 0px 0px #000000; color: #FFFFFF; height: 40px; font-size: 20px; width: 40px; opacity: 1.00; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_slideshow_left-ico_4:hover, #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_slideshow_right-ico_4:hover { color: #CCCCCC; } #spider_slideshow_left-ico_4{ left: -9999px; } #spider_slideshow_right-ico_4{ left: -9999px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_image_container_4 { top: 0px; width: 800px; height: 500px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_container_4 { display: table; height: 0px; width: 800px; top: 0; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_4 { left: 20px; width: 760px; /*z-index: 10106;*/ } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_thumbnails_4 { height: 0px; left: 0px; width: 68px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_thumbnail_4 { border: 1px solid #000000; border-radius: 0; height: 0px; margin: 0 1px; width: 0px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_thumb_active_4 { border: 0px solid #FFFFFF; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_thumb_deactive_4 { opacity: 0.80; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_left_4 { background-color: #3B3B3B; display: table-cell; width: 20px; left: 0; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_right_4 { background-color: #3B3B3B; right: 0; width: 20px; display: table-cell; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_left_4 i, #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_filmstrip_right_4 i { color: #FFFFFF; font-size: 20px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_watermark_spun_4 { text-align: left; vertical-align: bottom; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_title_spun_4 { text-align: right; vertical-align: top; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_description_spun_4 { text-align: right; vertical-align: bottom; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_watermark_image_4 { max-height: 90px; max-width: 90px; opacity: 0.30; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_watermark_text_4, #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_watermark_text_4:hover { text-decoration: none; margin: 4px; position: relative; z-index: 15; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_title_text_4 { font-size: 16px; font-family: segoe ui; color: #FFFFFF !important; opacity: 0.70; border-radius: 5px; background-color: #000000; padding: 0 0 0 0; margin: 5px; top:16px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_description_text_4 { font-size: 14px; font-family: segoe ui; color: #FFFFFF !important; opacity: 0.70; border-radius: 0; background-color: #000000; padding: 5px 10px 5px 10px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_description_text_4 * { text-decoration: none; color: #FFFFFF !important; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_dots_4 { width: 12px; height: 12px; border-radius: 5px; background: #F2D22E; margin: 3px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_dots_container_4 { width: 800px; top: 0; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_dots_thumbnails_4 { height: 18px; width: 612px; } #bwg_container1_4 #bwg_container2_4 .bwg_slideshow_dots_active_4 { background: #FFFFFF; border: 1px solid #000000; }

#bwg_container1_4 #bwg_container2_4 #spider_popup_overlay_4 { background-color: #000000; opacity: 0.70; }

jQuery(document).ready(function () { bwg_main_ready(); });
Source: BK Global News Feed

Comment here