Uncategorized

प्रेस विज्ञप्ति-किरारी, मस्तूरी मेले में दिया जा रहा परमात्मा शिव के अवतरण का दिव्य संदेश

सादर प्रकाशनार्थ
प्रेस विज्ञप्ति
सर्व के नाथ व ईश्वर हैं भगवान शिव – ब्रह्माकुमारी शशी
किरारी, मस्तूरी मेले का पहला दिन
ब्रह्माकुमारीज़ टिकरापारा की बहनें दे रहीं हैं परमात्मा शिव अवतरण का दिव्य संदेश
कल से सजेंगी द्वादश ज्योतिर्लिंग की झांकी…


किरारी, मस्तूरीः- भगवान शिव सर्व आत्माओं के परमपिता है उनके जितने भी नाम हैं वे कर्तव्यसूचक या गुणवाचक हैं। वे हमारे पाप काटने वाले हैं अर्थात् पापकटेष्वर हैं, मुक्ति-जीवनमुक्तिदाता होने से मुक्तेष्वर हैं, कालों के काल महाकाल होने से महाकालेष्वर हैं, अमरकथा सुनाने से अमरनाथ हैं। उनके अधिकतर नामों पर या तो नाथ अक्षर आता है जैसे अमरनाथ, सोमनाथ, केदारनाथ, पशुपतिनाथ, या ईष्वर अक्षर आता है जैसे – ओंकारेष्वर, मुक्तेष्वर, नागेष्वर, महाकालेष्वर आदि जो कि ये दर्षाता है कि सभी के नाथ व ईष्वर परमपिता परमात्मा षिव हैं। जिस स्थान पर यह मेला लगाया गया है वह लटेश्वरनाथ भी भगवान शिव का ही यादगार है। षिव अर्थात् कल्याण कारी। यदा-यदा हि धर्मस्य.. अर्थात् जब-जब धर्म की ग्लानि होती है तब-तब मैं भारत भूमि पर एक सत्य धर्म की स्थापना के लिए अवतरित होता हूं… गीता में कहे गए परमात्मा के इस वचन के अनुसार भगवान के धरती पर आने का समय आ चुका है क्योंकि अभी ही धर्मग्लानि का समय चल रहा है। परमात्म अवतरण के समय को पुरूषोत्तम संगमयुग कहा जाता है क्योंकि यह समय कलियुग रूपी घोर रात्रि व सतयुगी सवेरा के संगम का समय है।’’
ये बातें किरारी मेले के प्रथम दिन ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा लगाए परमात्मा शिव की झांकी व आध्यात्मिक चित्र प्रदर्शनी में दर्शनार्थियों को समझाते हुए ब्रह्माकुमारी शशी बहन ने कही। कल द्वादश ज्योतिर्लिंग की झांकी सजाई जायेगी। प्रदर्शनी समझाने के लिए टिकरापारा सेवाकेन्द्र की अन्य बहनें-ब्र.कु. ज्ञाना, ब्र.कु. पूर्णिमा व राकेश भाई, अमर भाई, होरीलाल भाई, बुधराम भाई, यशवंत भाई उपस्थित हैं।

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

Source: BK Global News Feed

Comment here