Uncategorized

श्रीमद् भागवत गीताज्ञान यज्ञ प्रवचन का शुभारंभ

स्व परिवर्तन से ही होगा विश्व परिवर्तन
धमतरी (28 दिसम्बर 2019)। गीता ज्ञान यज्ञ का मुख्य उद्देश्य, मनुष्य को उसकी वास्तविकता का बोध कराना है। आज मनुष्य धन, वैभव, संपत्ति, संबंधी सबके होते हुए भी दुखी है, क्योंकि वह अपने दुख का कारण यह तो किसी व्यक्ति वाचक परिस्थिति या किसी वस्तु के अभाव को मानता है, लेकिन उसके दुख का मूल कारण उसकी नकारात्मक सोच, बोल, कर्म एवं आदतें हैं। बस उसकी इसी गलतफहमी को निकालने के लिए यह सात दिवसीय गीता ज्ञान यज्ञ रखा गया है। उक्त विचार योग शक्ति ब्रह्माकुमारी गीता दीदी ने श्रीमद् भागवत गीताज्ञान यज्ञ प्रवचन के प्रथम दिवस व्यक्त किए।
गीता, रामायण एवं अन्य पुराणों के आध्यात्मिक रहस्य को सुनाने पहुंची ब्रह्माकुमारी गीता दीदी ने अपने अनमोल अनुभव युक्त बहुत प्रेरणादाई विचार गीता ज्ञान यज्ञ में प्रस्तुत किए, वो इस प्रकार है, आज तक हम वेद पुराणों का अध्ययन करते आए, कथाएं सुनते आए लेकिन जीवन में परिवर्तन दिखाई नहीं पड़ता क्योंकि जीवन में परिवर्तन तभी संभव है, जब संस्कारों का परिवर्तन हो और संस्कार परिवर्तन की सारी युक्तियां वेद पुराणों में ही हैं। लेकिन यह सारी युक्तियां ध्यान की स्थिति में वेदव्यास को प्राप्त हुई और जिन्होंने प्राप्त की उनके संस्कार तो परिवर्तन हुए, लेकिन हम दूसरों के विचारों को ही पढ़ते सुनते रह गए और स्वयं के संस्कार परिवर्तन नहीं कर पाए। यदि हम अपनी आदतों को बदलना चाहते हैं तो हमें भी ध्यान मेडिटेशन की गहराई में जाना होगा। क्योंकि ध्यान से अंतर जगत में पहुंचकर ही अपने वास्तविक संस्कारों को प्राप्त कर सकते हैं। महाभारत के पात्र कौरव और पांडव को दर्पण की तरह सामने रखते हुए दीदी ने कहा कि अपने साथ तुलना करके देखिए कि मेरे कर्म, मेरी आदतें और मेरी सोच किस से मेल खाते हैं। कौरवों से या पांडवों से यदि पांडवों से मेल खाते हैं, तो मेरा भविष्य निश्चित विजय है। और यदि कौरवों से मेल खाते हैं, तो मेरा भविष्य अति दुखदाई एवं पश्चाताप से भरा होगा। अर्थात पराजय निश्चित है।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती रंजना साहू, विधायक धमतरी, श्री हर्षद मेहता, पूर्व विधायक धमतरी, श्री दीपक लखोटिया प्रधान संपादक प्रखर समाचार, श्री रतन लाल अग्रवाल समाज सेवी धमतरी, ब्रह्माकुमारी सरिता दीदी संचालिका ब्रह्माकुमारीज़ धमतरी उपस्थित थे। सभी अतिथियों ने श्रीमद् भागवत गीताज्ञान यज्ञ प्रवचन के लिए अपनी शुभकामनाएं दी।
कार्यक्रम का शुभारंभ शोभायात्रा से किया गया जो कि दिव्यधाम धमतरी निकलकर नगर के मुख्य मार्गों से होेते हुए धनकेशरी मंगल भवन में सभा के रूप परिणित हुआ। जहां श्रीमद् भागवत गीताज्ञान यज्ञ प्रवचन 28 दिसम्बर से 3 जनवरी 2020 तक चलेगा। ब्रह्माकुमारी नवनीता बहन ने स्वागत गीत एवं कु. ऐशा ने स्वागत नृत्य प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन ब्रह्माकुमारी जागृति बहन ने किया।

Source: BK Global News Feed

Comment here