Uncategorized

ब्रह्माकुमारी बहनों द्वारा तनाव के वातावरण में शांति, प्रेम व भाईचारे का संदेश

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 25%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

सी.आर.पी.एफ. के अधिकारियों व जवानों के लिए मोटिवेशनल कार्यक्रम सम्पन्न

नीमच : देश में जहाँ चारों और स्वार्थ राजनैतिक तत्वों के द्वारा भ्रम फैलाकर हिंसा और अशांति को बढ़ावा दिया जा रहा है, वहीं दूसरी और अन्तर्राष्ट्रीय शांतिदूत ब्रह्माकुमारी संस्थान के सारे विश्व और खास भारत में निरन्तर प्रयास जारी हैं कि समाज को एक एैसी आध्यात्मिक दिशा दिखाई जाए जहाँ नफरत, हिंसा और भेदभाव का कोई स्थान नहीं हो, इस हेतु लगातार विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है, इसी श्रंखला में ब्रह्माकुमारी संस्थान के नीमच स्थित ज्ञानसागर परिसर के विशाल सद्भावना सभागार में सी.आर.पी.एफ. के अधिकारियों एवं जवानों के लिए मनोबल, शांति एवं एकाग्रता बढ़ाने वाला मोटिवेशनल कार्यक्रम आयोजित किया गया । इस कार्यक्रम की प्रमुख वक्ता स्ट्रेस मैनेजमेंट स्पेशलिस्ट बी.के.श्रुति बहन ने आडियो-विज्युअल माध्यम से उपस्थित जवानों एवं अधिकारियों को समझाया कि देश, समाज व परिवार में हिंसा व तनाव का कारण गिरती हुई मानसिक स्थिति है । आज का मानव अपना मनोबल खोता चला जा रहा है और कमजोर मन अनेक बीमारियों व तनाव का कारण बन रहा है । समस्या की इस मूल जड़ पर किसी का ध्यान नहीं है तथा सुख-शांति एवं सौहार्द्र के लिए केवल बाहरी भौतिक प्रयास किये जा रहे हैं । जिसका परिणाम नगण्य है, किन्तु यदि प्रत्येक व्यक्ति अपने चैतन्य आत्म स्वरूप को पहचान कर यदि सर्व आत्माओं के परमपिता परमात्मा जो कि सर्वशक्तिवान है से नाता जोड़ सके तो उसके मनोबल में आश्चर्यजनक रूप से वृद्धि होती है और सारे विश्व का वातावरण भी प्रेम व भाईचारे का हो सकता है । आज आवश्यकता है एैसे नि:स्वार्थ और सच्चे आध्यात्मिक प्रयासों की । बी.के.श्रुति बहन ने एकाग्रता और मनोबल की वृद्धि के लिए राजयोग मेडिटेशन के अनेक अनमोल एवं उपयोगी टिप्स भी दिये तथा मेडिटेशन का अभ्यास भी करवाया । हॉल में उपस्थित महिला अधिकारियों सहित समस्त जवानों व अधिकारियों ने गहन शांति की अनुभूति की व बताया कि सचमुच यहाँ आकर हम अपना सारा तनाव भूल गए और साथ ही यह भी महसूस हुआ कि एकाग्रता व ध्यान से हर बीमारी को भी जीता जा सकता है ।

Source: BK Global News Feed

Comment here