Uncategorized

ओ.आर.सी में हुआ किसान सशक्तिकरण सम्मलेन का आयोजन

ओ.आर.सी में हुआ किसान सशक्तिकरण सम्मलेन का आयोजन

किसानों का कौशल विकास ज़रूरी –  डा.संजीव पतजोशी

हमारा श्रेष्ठ चिंतन ही बनाता है प्रकृति को सुखदाई – बी. प्रधान

राष्ट्र के सशक्तिकरण के लिए किसानों का सशक्त होना ज़रूरी

१२ नवम्बर २०१९, गुरूग्राम

ब्रह्माकुमारीज़ के भोडाक़लां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में किसान  सशक्तिकरण सम्मलेन का आयोजन हुआ। वर्तमान समय किसानों की स्थिति विषय पर आयोजित एक दिवसीय कार्यक्रम में बोलते हुए पंचायत राज मंत्रालय, भारत सरकार के संयुक्त सचिव डा. संजीव पतजोशी ने कहा कि किसानों का कौशल विकास ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि किसानों की जागरूकता के लिए समय-समय पर उन्हें आधुनिक साधन उपलब्ध होने चाहिए। उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारीज़ संस्था आध्यात्मिक विचारों से किसानों के मनोबल बढ़ाने का सराहनीय कार्य का रही है।

कृषि सहयोग एवं किसान कल्याण विभाग, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के  अतिरिक्त  सचिव बी. प्रधान ने कहा कि प्रकृति के साथ आत्मा का सुन्दर संवाद ही वास्तव में श्रेष्ठ जीवन का आधार है। उन्होंने कहा कि हमारा श्रेष्ठ चिंतन ही वास्तव में प्रकृति को सुखदाई बनाता है। उन्होंने कहा कि किसान वास्तव में अन्नदाता है, जिनके अथक परिश्रम से ही हमें भोजन प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि हमारा ये दायित्व होना चाहिए कि हम किसानों के जीवन उत्थान के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दें।

संस्था के अतिरिक्त महासचिव बी.के.बृजमोहन ने कहा कि हमारी संस्कृति वास्तव में देवी-देवताओं की संस्कृति रही है लेकिन वर्तमान समय हम उसका बिल्कुल ही उल्टा रूप देखते हैं। उन्होंने कहा कि अगर हमें भारत देश को पुन: विश्व सरताज बनाना है तो उसके लिए हमें अपनी जीवन शैली में परिवर्तन करना होगा। उन्होंने कहा हम अपने दिव्यगुणों के द्वारा ही एक बेहतर समाज एंव विश्व का निर्माण कर सकते हैं।

इस अवसर पर ओ.आर.सी की निदेशिका आशा दीदी ने अपने संबोधन में कहा कि प्रकृति भी हमारे मनोभावों को गृहण करती है। उन्होंने कहा कि हमारे शुद्ध एवं सात्विक विचारों का प्रभाव प्रकृति को शक्तिशाली बनाता है।

मेहसाना, गुजरात से पधारी सरला दीदी ने कहा कि हम एक सशक्त राष्ट्र तभी बना सकते हैं जब हमारे किसानों का जीवन बेहतर हो। उन्होंने कहा कि किसानों की जीवन शैली बेहतर बनाने के लिए अंधश्रद्धा, कुरीति, कुरिवाज, एवं दुर्व्यसनों का निर्मूलन जरूरी है।

इस अवसर पर विशेष रूप से माउण्ट आबू राजस्थान से पधारे बी.के.राजू ने कहा कि विचारों अथवा चिंतन के द्वारा किसानों को सशक्त बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सकारात्मक दृष्टिकोण से किय गये कार्य अवश्य सिद्ध होते हैं। उन्होंने कहा कि राजयोग के ज्ञान एवं अभ्यास से ही हमारे अंदर समस्याओं का सामना करने की शक्ति उत्पन्न होती है।

कार्यक्रम में विशष रूप से पलवल से पधारे बी.के.राजेन्द्र ने जैविक एवं यौगिक खेती के बारे में अनेक जानकारी दी। उन्होंने ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा की जा रही यौगिक खेती के बारे में भी बताया।

कार्यक्रम का प्रारम्भ  दिल्ली, मज़लिस पार्क से पधारी बी.के.राजकुमारी ने अपने स्वागत वक्तव्य के द्वारा किया। कार्यक्रम के अंत में दिल्ली से पधारे बी.के.जयप्रकाश ने सभी का धन्यवाद किया। कार्यक्रम का संचालन बी.के.प्रमिला ने किया। कार्यक्रम में दिल्ली एवं एन.सी.आर. से अनेक लोगों ने शिरकत की।

#gallery-2 {
margin: auto;
}
#gallery-2 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-2 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-2 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

Source: BK Global News Feed

Comment here