Uncategorized

Delhi ORC – 2-Day National Convention on Bhagvad Gita Begins – अखिल भारतीय भगवद्गीता सम्मलेन का शुभारम्भ

प्रेस विज्ञप्ति

गीता धार्मिक शास्त्र नहीं बल्कि सम्पूर्ण जीवन पद्धति है – स्वामी धर्मदेव

गीता अहिंसा का संदेश देती है – पूर्व न्यायाधीश वी. ईश्वरैया

गीता को आध्यात्मिक भाव से समझना ज़रूरी

२७ जुलाई २०१९, गुरूग्राम

ब्रह्माकुमारीज़ संस्था गीता को अपने व्यवहारिक जीवन से सारे विश्व में प्रत्यक्ष कर रही है। उक्त विचार स्वामी धर्मदेव जी महाराज, हरि मंदिर आश्रम, पटौदी ने ब्रह्माकुमारीज़ सस्था के भोड़ाकलाँ स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में दो दिवसीय अखिल भारतीय भगवद्गीता सम्मलेन के उद्घाटन अवसर पर व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि गीता का अध्ययन तो हम कई बार कर चुके हैं, लेकिन क्या कभी हमने उस पर अमल किया कि गीता हमसे क्या चाहती है? उन्होंने कहा कि गीता मात्र एक धार्मिक शास्त्र नहीं बल्कि एक सम्पूर्ण जीवन पद्धति है। उन्होंने कहा कि गीता के एक शब्द को भी अगर हम जीवन में उतार लें, तो बेड़ापार हो जाएगा। स्वामी जी ने कहा कि हम केवल गीता पढ़ते रहे लेकिन कभी ठहर कर उसको समझने का प्रयास नहीं किया। उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारीज़ आज गीता को सही अर्थों में जी रही है, जोकि सारे विश्व के लिए अनुकरणीय है।

हैदराबाद, उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश वी. ईश्वरैया ने कहा कि गीता वास्तव में योग शास्त्र है, जो जीवन जीने की कला सिखाता है। उन्होंने कहा गीता का ज्ञान हमें अहिंसा की प्रेरणा देता है, इसमें हिंसा व युद्ध का कोई स्थान नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि वास्तव में व्यक्ति के मन में चलने वाले वैचारिक द्वन्द को युद्ध की संज्ञा दी गई है।

साईंबाबा विद्यापीठ, हैदराबाद के पीठाधिपति स्वामी गोपालकृष्णानन्द जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि मैं कई वर्षों से संस्था के संपर्क में हूँ। मैंने संस्था के हर क्रियाकलाप को बड़ी करीब से देखा है। उन्होंने कहा कि अगर कोई गीता को आत्म्सात कर रहा है तो वो केवल ब्रह्माकुमारीज़ संस्था है। उन्होंने कहा कि मैंने अनेकों बार गीता अध्ययन किया लेकिन फिर भी उसका रहस्य समझ नहीं पाया लेकिन ब्रह्माकुमारीज़ संस्था के संपर्क में आकर मुझे गीता का सही अर्थ समझ में आया।

श्री महन्त तपकेश्वर मंदिर, देहरादून के योगाचार्य विपिन कुमार जोशी ने कहा कि आज हर कोई केवल अधिकारों की बात करता है लेकिन अपने कर्तव्यों को भूल गया है। उन्होंने कहा कि गीता हमें कर्तव्यों के प्रति सजग करती है। गीता का यही संदेश है कि अपने कर्तव्यों से नहीं भागो। कैसी भी परिस्थिति हो लेकिन अपने कर्तव्यों का सही से निर्वाह करो, अधिकार तो स्वत: प्राप्त हो जाएंगे।

इस अवसर पर विशेष रूप से ब्रह्माकुमारीज़ के अतिरिक्त महासचिव बी.के.बृजमोहन जी ने कार्यक्रम के आरम्भ में सभी का स्वागत करते हुए कार्यक्रम के उद्देश्य को स्पष्ट किया। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम का उद्देश्य वर्तमान परिप्रेक्ष में गीता की भूमिका को स्पष्ट करना है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय विश्व की वही दशा है जो गीता में वर्णित है। उन्होंने कहा कि गीता का ज्ञान हमें आत्मिक चेतना के विकास की प्रेरणा देता है। उन्होंने कहा कि गीता एक आध्यात्मिक ग्रंथ है, इसको आध्यात्मिक भाव से समझने की आवश्यकता है न कि भौतिक रूप से। उन्होंने कहा कि समय-समय पर अनेक लेखकों ने गीता की टीकाएं की हैं।

कार्यक्रम का संचालन ब्रह्माकुमारीज़ के इलाहबाद सेवाकेन्द्र प्रभारी बी.के.मनोरमा ने किया। कार्यक्रम में विद्वान, कुलपति, संस्कृत के प्राचार्य एवं संत-महात्माओं सहित अनेक संख्या में गीता प्रेमियों ने शिरकत की।

कैप्शन- १ .बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलित करते हुए स्वामी धर्मदेव जी महाराज, उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश वी. ईश्वरैया, स्वामी गोपालकृष्णानन्द जी, योगाचार्य विपिन कुमार जोशी, बी.के.बृजमोहन जी, डा. एस.एम. मिश्रा, बी.के.मनोरमा, बी.के.बसवाराज जी, बी.के.वीणा, बी.के. उषा, डा. पुष्पा पाण्डे तथा अन्य

२. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए स्वामी धर्मदेव जी महाराज, हरि मंदिर आश्रम पटौदी

३. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए हैदराबाद उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश वी. ईश्वरैया

४. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए साईंबाबा विद्यापीठ, हैदराबाद के पीठाधिपति स्वामी गोपालकृष्णानन्द जी

५. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में श्री महन्त तपकेश्वर मंदिर, देहरादून के योगाचार्य विपिन कुमार जोशी

६. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारीज़ के अतिरिक्त महासचिव बी.के.बृजमोहन जी

७. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में मंचासीन वक्तागण

८. बह्माकुमारीज़ के भोड़ाकलां स्थित ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित जन समूह

#gallery-2 {
margin: auto;
}
#gallery-2 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 25%;
}
#gallery-2 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-2 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

Source: BK Global News Feed

Comment here