Uncategorized

भरतपुर ; प्रजापिता ब्रह्मा कुमारीज की और से 19 जून 2019 को विश्व प्रिय शास्त्री पार्क के अंतर्गत सामूहिक अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का कार्यक्रम मनाया गया

रतपुर: 19 जून 2019 प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईष्वरीय विष्व विद्यालय के द्वारा भरतपुर के विष्वप्रिय षास्त्री पार्क के अन्र्तगत 21 जुन 2019 को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष में ब्रह्माकुमारीज की ओर से सामूहिक जिला स्तरीय कार्यक्रम सेवा केन्द्र प्रभारी ब्र कु कविता बहनजी के र्निदेषन में आयोजन किया गया कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन सभी मंचीय अतिथियों के द्वारा दीप प्रज्जवलन कर किया गया। मुख्य अतिथि भ्राता षिवसिह भौट, महापौर नगर निगम, विषिश्ट अतिथि भ्राता निरंजन सिह जी उपनिदेषक आयुर्वेद विभाग भरतपुर ,भ्राता डाँ मूलचंद राणा एडीषनल एसपी भरतपुर । भ्राता सुषील पारासर ,व्यबस्थापक आयुर्वेद भरतपुर ,ब्र.कु.भावना बहन प्रभारी सादाबाद हाथरस ,भा्राता गिरीष वैद, भ्राता जगदीष डागुर ,नेहरू युवा केन्द्र भरतपुर ।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से आयुश मंत्रालय, भारत सरकार के द्वारा जारी योग अभ्यासों का प्रदर्षन व अभ्यास योग प्रषिक्षक, ब्र0कु0 बबीता बहन, ब्र0 कु0 लक्ष्मण भाई तथा ब्र.कु.रनवीर भाई ,भरतपुर के मार्गदर्षन में कराया गया तथा ध्वनि एवं संगीत के सेयोजन द्वारा षरीर को ऊर्जावान बनाने के लिए सहज व सरल व्यायाम कराए गए। ब्र0कु0 बबीता बहन द्वारा राजयोग का अभ्यास कराया गया
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये आद. राजयोगिनी ब्र.कु.कविता बहन जी सयुक्त प्रभारी आगरा सबजोन भरतपुर ने कहा कि राजयोग के माध्यम से ही भारत विष्व गुरू बनेगा तथा राजयोग के अभ्यास से मन के सभी विकार मिटते हैं मन ष्षुध्द षान्त षक्तिषाली स्वस्थ बनता हैं स्वस्थ मन ही स्वस्थ तन का आधार हैं मुख्य अतिथि भ्राता षिवसिंह भोंट, महापौर नगर निगम, भरतपुर ने भी अपनी षुभकामनायें देते हुऐ ब्रह्याकुमारी बहनों द्वारा यह योग का कार्यक्रम अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं योग अभ्यास आज के समय की पुकार हैं तथा कार्यक्रम की सराहना की ।सभी को राजयोग अपनाने का आहवान किया ।
विषिश्ट अतिथि भ्राता निरंजन सिह जी उपनिदेषक आयुर्वेद विभाग भरतपुर ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि योग से आत्मा परमात्मा का मिलन होता तथा मन एवं षरीर निरोगी बनता हैं ।
ब्र.कु.भावना बहन प्रभारी सादाबाद हाथरस: ने राजयोग के महत्व पर प्रकाष डालते हुए कहा कि करो योग भगाओ रोग योग दो प्रकार के हैं तन का रोग और मन का रोग । तन के योग से तन स्वस्थ होता हैं मन के योग से मन ठीक होता हैं प्राचीन काल में जीवन पध्दती ऐसी थी जिसमें किसी को भी अलग से योग की आवष्यकता नही थी परन्तु आज राजयोग की आवष्यकता हैं जिससे हमारा तन और मन दोनो ही ठीक होते हें अतः मन को उस परमात्मा में लगाओ और स्वस्थ जीवन पाओ ।
भ्राता सुषील पाराषर ,व्यबस्थापक आयुर्वेद भरतपुर ने अपने विचार में कहा कि पूर्व में आयोजित पाँचवें अन्तराश्ट्रीय योग दिवस का यह कार्यक्रम सराहनीय हैं विष्व में रोग बढतें जा रहे हैं इनसे राजयोग ही मुक्त कर सकता हैं । राजयोग से ही स्वस्थ समाज एवं स्वस्थ विष्व का निर्माण होगा ।
कार्यक्रम के बाद उपस्थित विषालजन समूह द्वारा विष्वप्रिय षास्त्री पार्क से ब्रह्माकुमारीज सेवा केन्द्र, कृश्णा नगर तक जन-जन को योग के महत्व को प्रदर्षित करती हुए प्रभात फेरी निकाली गई जिसे भ्राता षिवसिंह भोंट, मेयर नगर निगम तथा भ्राता निरंजन सिह जी उपनिदेषक आयुर्वेद विभाग भरतपुर ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। कार्यक्रम का संचालन ब्र0कु0 प्रवीणा बहन ने किया।
इसके साथ ही जिले भर के विभिन्न ब्रह्मकुमारीज उपसेवा केन्द्रों से पधारी ब्र.ंकु. कमलेष बहन नदबई, संतोश बहन वैर, योगिता बहन रूदावल ,ब्र.कु.गीता बहन रूपवास , सुनीता बहन बयाना ,पावन बहन ओल ने भी दीप प्रज्जवलित कर अपनी उपस्थिति दर्ज की। कार्यक्रम में विभिन्न संस्थाओं एवं संगठनों के कार्यकर्ता व पदाधिकारी जिनमें भ्राता जगदीष डागुर, नेहरू युवा केन्द्र, श्रीमति बबीता षर्मा, अनुराधा षर्मा भ्राता अमरसिह , भ्राता जगदीष ,लक्ष्मीनारायण,, बालमुकुन्द , जयसिंह आदि षामिल हुए।

There is no gallery selected or the gallery was deleted.

Deep prjwallan karte huye

Source: BK Global News Feed

Comment here