Uncategorized

तनाव कम करने का सबसे अच्छा उपाय राजयोग मेडीटेशन: बी. के. प्रहलाद

तनाव कम करने का सबसे अच्छा उपाय राजयोग मेडीटेशन: बी. के. प्रहलाद

दैनिक भास्कर प्रेस ग्वालियर द्वारा तनाव प्रबंधन एवं मेडिटेशन विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें ब्रह्माकुमारीज संस्थान से स्वप्रबंधन विशेषज्ञ एवं राजयोग मैडिटेशन एक्सपर्ट बी के प्रहलाद भाई को आमंत्रित किया गया| बी के प्रह्लाद भाई ने सभी को सम्बोधित करते हुए कहा क़ि तनाव वर्तमान समय की सबसे बड़ी समस्या के रूप में उभरकर आमने आया है चाहे वह कार्यस्थल का तनाव हो, घर का हो,स्कूल व कॉलेज का हो या कोई भी सम्बन्ध संपर्क का हो, धनाभाव हो आज इससे लगभग सभी आयु व क्षेत्र के लोग प्रभावित हैं सभी मनुष्य अपने जीवन में सुख शांति चाहते हैं तनाव फ्री रहना चाहते हैं लेकिन वे यह नहीं जानते क़ि जीवन में स्थायी सुख शांति व आनंद कैसे प्राप्त किया जाए| अतः मनुष्य के स्वभावत: यदि सभी चीज़ें उसके अनुसार चलती रहती है तो वह सुखी रहता खुश रहता है जहाँ एक भी चीज़ यदि उसके अनुसार नहीं होती तो वही उसके तनाव का कारण बन जाती हैं| तो इसके लिए सर्वप्रथम जरुरी है क़ि हम स्वयं को जाने खुद को पहचानें क़ि “मैं कौन हूँ”| मेरा अनादि ओरिजिनल स्वरुप क्या है मेरे गुण व मेरी शक्तियां क्या हैं इस सृष्टि रंगमंच के खेल को पहचानें| साथ ही कर्मों क़ि गुह्य गति का हमें ज्ञान हो| तब जाकर हम सभी अपने किरदार को बहुत सुन्दर व अच्छे ढंग से अदा कर सकते हैं| जिसमें सर्व के प्रति सहयोग,स्नेह की कामना हो शुभभावना हो और बताया कि कैसे हम छोटी-छोटी सी अपनी रोज़मर्रा की बातों से तनाव पैदा कर लेते हैं जबकि हमें उन्हें इग्नोर करना सीखना होगा साथ ही उन्होने बताया कि कार्यस्थल पर किस प्रकार भिन्न-भिन्न प्रकार के तनाव के कारण सामने आते हैं और उन्हें किस प्रकार से हैंडल करना चाहिए विस्तार से सभी को बताया|
साथ ही तनाव के विभिन्न कारणों व उसको कम करने के लिए कुछ टिप्स भी शेयर किये :
• हम सभी को अपनी दिनचर्या सेट करनी चाहिए | जहाँ दिनचर्या सेट होगी वहां हम अपने तनाव को आसानी से कम कर सकते हैं|
• तनाव कहीं न कहीं इस बात का सूचक है क़ि हमें दिनचर्या में परिवर्तन करने क़ि आवश्यकता है एक ही तरीके का कार्य यदि हम अधिक समय तक करते हैं तो वह भी तनाव का कारण बन जाता है यदि हमें एक ही कार्य करते रहना पड़ता है तो बीच-बीच में उसमें बदलाव करते रहें| साथ ही हफ्ते में एक दिन बाहर घूमने फिरने जाएँ,अपनी पसंद का कोई भी कार्य करें,अपने दोस्तों व परिवार के साथ समय व्यतीत करें, प्रकृति के सानिध्य में समय बिताएं हर सात दिन में अपनी दिनचर्या चेंज करें|
• तनाव कम करने के लिए नियमित रूप से सभी को मैडिटेशन करना चाहिए साथ ही रोज रात को अपनी दिनचर्या लिखनी चाहिए क़ि आज दिन भर में मैंने क्या अच्छा किया क्या गलत किया| ऐसा करने से आपका मन हल्का हो जायेगा और जो कार्य आप नहीं कर पाए उस कार्य को आगे आप कब करना चाहते हैं उसके लिए जो प्रेशर दिमाग पर है वह हट जायेगा |
• अगर कोई ऐसी बात है जो तनाव का कारण बन रही है तो अपने दोस्तों या जो भी आपके घनिष्ठ हों उनसे शेयर करें ताकि जो दिमाग पर बोझ है वो कम हो जायेगा यदि आप किसी से शेयर नहीं करना चाहते तो सबसे अच्छा तरीका है खुदा के नाम एक खत लिखें और उसमें अपनी सभी बातें भगवान के साथ शेयर करें|
• ऐसे लोगों का संग नहीं करें जिनकी सोच नकारात्मक हैं व्यर्थ का लड़ाई- झगड़ा करते हों एक दूसरे की कमी कमजोरी, परचिन्तन परदर्शन में रहते हों| यदि आप ऐसा संग करेंगे तो आप चाहें या न चाहें ये बातें आप पर प्रभाव डालेंगी और अनावश्यक ही आप पर प्रेशर क्रिएट होगा|
• आज तनाव का प्रमुख कारण है हमारा अधिकांश समय सोशल साइट्स पर व्यतीत करना, कार्यक्षेत्र और सम्बन्ध संपर्क में कड़वाहट है इसलिए हो सके तो अपनी दिनचर्या में से थोड़ा समय आध्यात्मिक और प्रेरक किताबें पढ़ने के लिए जरूर निकालें क्यों कि किताबें ही हमारी सबसे अच्छी मित्र होती हैं यदि सभी सकारात्मक चिंतन व मोटिवेशनल किताबों को नियमित रूप से पढ़ना अपनी दिनचर्या में शामिल करें| तो निश्चित ही आपका तनाव तो कम होगा ही साथ ही और भी कई फायदे होंगे|

कार्यक्रम के अंत में सभी को बी. के. प्रहलाद भाई ने मैडिटेशन कि गहन अनुभूति भी कराई |

#gallery-2 {
margin: auto;
}
#gallery-2 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 25%;
}
#gallery-2 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-2 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

Source: BK Global News Feed

Comment here