Uncategorized

योग से स्वस्थ तन, स्वस्थ मन और स्वस्थ समाज का निर्माण – ब्रह्मा कुमारी प्रेमलता दीदी

कामठी  – अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय कामठी के द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें सेवा केंद्र संचालिका ब्रह्मा कुमारी प्रेमलता दीदी ने कहा कि वर्तमान समय की परिस्थिति अनुसार आज हर व्यक्ति चिंता ,भय, तनाव और अशांति के वातावरण में जी रहा है ऐसे में उसे शांति प्राप्त करने के लिए योग और राजयोग का अभ्यास करना अति आवश्यक हो गया है। योग हर व्यक्ति की जरूरत बन गया है। सिर्फ 1 दिन ही योग नहीं परंतु हमें रोज योग करने की आवश्यकता है। जिससे हम शारीरिक, मानसिक, आर्थिक ,सामाजिक एवं आध्यात्मिक स्वास्थ्य की प्राप्ति कर सके । अपने मनोगत व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा की योग सिर्फ शारीरिक क्रियाएं नहीं लेकिन व्यक्ति का व्यक्ति से जुड़ाव यह भी योग होता है, व्यक्ति का प्रकृति के साथ भी योग हैं जब हम सही मायने में योग करते हैं तो हमें  व्यक्ति, वस्तु एवं प्रकृति के साथ भी अपनापन महसूस होता है जिससे हमसे किसी को भी हानि पहुंचे ऐसे कर्म हमारे हाथों से कभी नहीं होंगे एवं दिनोंदिन जब हम योग- राजयोग मेडिटेशन करते हैं तो हमारी सुषुप्त शक्तियों की जागृति होती है और हमारे में असीम शक्तियों का संचार होता है।
  व्यक्ति आज चिंता, भय, तनाव और अशांति के कारण हमेशा ही चिड़चिड़ा और अवसाद ग्रस्त रहता है । जिस कारण दवाइयां भी असर नहीं होती जा रही है परंतु योगा- राजयोग मेडिटेशन एक ऐसी विधि है जो व्यक्ति के लिए अमृत का काम कर सकती है – हर व्यक्ति ने इसे सीखने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि यही एक माध्यम है जो हमें स्वस्थ तन – स्वस्थ मन एवं स्वस्थ समाज दे सकता है । उक्त विचार ब्रह्मा कुमारी प्रेमलता दीदी ने सुनाएं एवं सभी को योगासन प्राणायाम प्राणायाम एवं राजयोग मेडिटेशन भी कराया।
 इस अवसर पर पंचायत समिति सदस्य  साै. विमलताई साबले जोगेंद्र वाघमारे, घनश्यामजी चकोले, सतीश महिंद्र ,ब्र.कु. प्रेरणा ब्र. कु. चंद्रकला, कविता, कांचन, शीलू, वंदना, अरुणा  बड़ी संख्या में  भाई बहने उपस्थित थे।

Source: BK Global News Feed

Comment here