Uncategorized

INTERNATIONAL NO TAMBACU DAY 31MAY

 अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध दिवस परिचर्चा का आयोजन

कोरबाः 31.05.2019-समाज कल्याण विभाग एवं प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में 31 मई अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध दिवस पर विषयः तम्बाकू का अंजाम, मौत का पैगाम पर एक परिचर्चा का आयोजन किया गया। भ्राता संजय मरकाम उप जिलाधीश एवं उप संचालक समाज कल्याण विभाग ने कहा कि जिला प्रशासन एवं जिलाधीश महोदया के निर्देशानुसार इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये आप लोगों को तथा संस्था का मैं हृदय से धन्यवाद ज्ञापित करता हूंॅ। प्रशासन की यह एक आवश्यक जिम्मेदारी होती है कि तम्बाकू से जो जन समुदाय को नुकसान होते हैं, उनके प्रति जन जागरूकता लाई जाये। तम्बाकू का भयावह परिणाम कैन्सर और उससे होने वाली मौत ही है। इसलिये जन जागरूकता को वृहत स्तर पर चलाने की आवश्यकता है। आज के दिन समाज कल्याण विभाग के द्वारा विभिन्न कार्यालयों, जनपद पंचायत तथा ग्राम पंचायतों को नशा न करने के लिये कार्यक्रम आयोजित कर शपथ ग्रहण करने के लिये निर्देश दिये गये हैं। डाॅ. के.सी. देबनाथ एम.डी. निर्देशक अक्षय हास्पिटल कोरबा ने कहा कि स्वास्थ्य ही हमारी सम्पत्ति है। नशा आज घर घर तक पहुंच गया है, जो कि कैन्सर जैसे भयावह बीमारी का कारण बनती है। एक है स्मोक तम्बाकू, दूसरा है स्मोकलेस तम्बाकू का नशा जो कि पाउच, गुड़ाकू के रूप में लोग इसका उपयोग करते हैं। तम्बाकू सेवन से वास्तव में निकोटिन एक रासायनिक तत्व बल्ड में मिल कर, मस्तिष्क को प्रभावित करता है। कुछ समय के लिये बहुत अच्छा लगता है। लेकिन इसे लेते लेते लोग आदत के शिकार हो जाते हैं। आज छोटे-छोटे बच्चे भी इसके शिकार हो चुके हैं। तम्बाकू के पैकेट के ऊपर भयावह कैन्सर का चित्र भी बना हुआ और वार्निग के लिखे होने के बावजूद भी यह बीमारी महामारी की तरह फैलती जा रही है। आपने कहा कि धार्मिक संस्थाओं के साथ, सभी को मिल जुल कर सामने आकर समाज को नशा मुक्त बनाने में अपनी सहभागिता निभानी होगी। भ्राता रामकुमार साहू अतिरिक्त महाप्रबंधक एन.टी.पी.सी ने कहा कि जिस मुकाम पर सारा विश्व खड़ा है, उसको देखते हुए सिर्फ एक दिवस का कार्यक्रम काफी नहीं हैं। इसके साथ ही साल भर लगातार इस अभियान को चलाने की आवश्यकता है। घर परिवार में यदि एक सदस्य नशा करता है और इसके कारण बीमार पड़ जाता है तो इसका प्रभाव सारे परिवार पर पड़ता है। आपने कहा कि अपने अधिकार क्षेत्र में, अपने परिसर को नशा मुक्त बनाने के लिये सभी के प्रति शुभकामना रखते हुए, हरेक को प्रयास करना चाहिए। ब्रह्माकुमारी रूकमणी बहन ने कहा कि यह शरीर एक मंदिर है। जीवन में नर से नारायण बनने का नशा सर्वोत्तम है। इसलिये अच्छे कार्य करने का नशा करें तो बुराई से दूर रहेगें। स्वयं एक उदाहरण बन दुसरों को शिक्षा देने के उदाहरणमूर्त बनें। ब्रह्माकुमारी बिन्दू बहन ने नशा न करने के लिये सभी को शपथ दिलाई । आपने कहा नशे से दूर रहने के लिये स्वयं ही स्वयं के प्रति जाग्रति लाना आवश्यक है। राजयोग के अभ्यास से मनोबल को बढ़ायें। ब्रह्माकुमारी सारिका बहन ने मंच संचालन किया। कार्यक्रम के संयोजन में मुकेश दिवाकर, समीलाल साहू समाज कल्याण प्रभाग ने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई। कु. संजना, चांदनी तथा प्रंाजल ने अपने समूह के साथ नृत्य की प्रस्तुति की।
इसके साथ ही पर्यावरण संरक्षण एवं आपदा प्रबंधन अभियान का शुभारम्भ दीप प्रज्जवलित करके किया गया।

Source: BK Global News Feed

Comment here