Uncategorized

“ब्रह्मा कुमारीज शिव शक्ति भवन ” द्वारा पांचवे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का सफल आयोजन

21 जून समूचे विश्व में योग दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। बीदर में ब्रह्माकुमारीज शिव शक्ति भवन (रामपुर कॉलोनी) द्वारा पांचवा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस भूमरेड्डी कॉलेज के विशाल ग्राउंड में गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।
कार्यक्रम के आरंभ में  राजयोगिनी ब्रम्हाकुमारी पार्वती बहन, सरस्वती बहन, बीवीबी कॉलेज प्रिंसिपल  डॉ  . मल्लिकार्जुन, पतंजलि योग शिक्षक धोंडीराम चांदीवाले,  विजया बैंक के मैनेजर भ्राता संगमेश्वर पाटील, भ्राता राघवेंद्र (प्रिंसिपल  बीवीबी  बीएड  कॉलेज), योगेंद्र यदलापूरे (योग शिक्षक ),   डॉ . तुगावे आदि गणमान्य हस्तियों के कर कमलों द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया  ।

विद्यार्थी,  व्यापारी, डॉक्टर्स तथा बी. के. भाई-बहने सैकड़ों की संख्या में उपस्थित थे। बीके पारु बहन ने सूत्रसंचालन किया l

कार्यक्रम के अंत में सभी को फ्रूट तथा जूस दिया गया।

 

शरीर के साथ-साथ मन और आत्मा को शक्तिशाली बनाने के लिए  राजयोग का अभ्यास जरूरी- बीके सरस्वती

राजयोगिनी बीके सरस्वती बहनजी ने योग दिवस के उपलक्ष में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा योग वास्तविक रूप से जोड़ने कां काम करता है। वह स्वयं को स्वयं से, स्वयं को परमात्मा शक्ति से, स्वयं को समाज तथा व्यक्तियों से, स्वयं को प्रकृति और पर्यावरण से जोड़ने का काम करता है। आज का मनुष्य शरीर को स्वस्थ रखने के लिए तरह-तरह के उपाय कर रहा है परंतु मन और आत्मा मे जो नकारात्मक भावनाएं उत्पन्न हो रही है जिस कारण समाज में कलह, कलेश, तनाव और परिणाम स्वरूप बीमारियां फैल रही है, प्रदुषण बढ रहा है। आज योग और प्राणायाम करते हुए भी बीमारियां कम नहीं हो रही है क्योंकि मनुष्य सुबह से शाम तक अपने मन में नकारात्मक विचार उत्पन्न करता है जिसका मन पर शरीर पर, संबंधों पर,  और पर्यावरण पर उसका बुरा प्रभाव पड रहा है। हमें   शरीर के  साथ- साथ मन और आत्मा को भी सशक्त  बनाने के लिए राजयोग को भी जीवन मे अपनाना जरुरी है। क्योंकि वर्तमान समय में डॉक्टर्स तथा साइकेट्रिस्ट का कहना है कि ज्यादातर रोग मानसिक संतुलन बिगड़ने से होते हैं तनाव ही सर्व रोगों का कारण बताया है राजयोग हमें तनाव मुक्त जीवन जीने की कला सिखाता है अंत में उन्होंने सभा में उपस्थित जनसमूह को कमेंट्री द्वारा  से राजयोग अभ्यास कराया तथा राजयोग को अपने जीवन में अपनाने का आह्वान किया l

केवल एक दिन योग दिवस नहीं मनाये बल्कि जीवन ही योगी जीवन बनाएं – बीके पार्वती

राजयोगिनी बीके पार्वती बहन जी ने योग दिवस के उपलक्ष में शुभकामनाएं देते हुए कहा योग दिवस एक दिन नहीं मनाया जाए बल्कि  जीवन ही योगी जीवन बनाएं उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय को योगी जीवन बनाने के लिए दृढ़ प्रतिज्ञा  कराई  उन्होंने आगे कहा पिछले कुछ वर्षों में भारत में स्वच्छता अभियान सफलतापूर्वक चलाया गया स्वच्छता के विषय में हमें स्वयं से शुरुआत करनी पड़ेगी। शरीर, मन और आत्मा को स्वच्छ बनाने का सरल साधन है योग। योग शरीर को स्वस्थ और तंदुरुस्त बनाता है। योगी संतुलित, संयमित, स्वयंचलित और अनुशासित होता है। ऐसे योगी विश्व में तैयार होंगे तभी विश्व एक दिन स्वर्णिम विश्व में परिवर्तित होने में समय नहीं लगेगा। जिसकी हम सब  संकल्पना करते हैं  वह स्वर्णिम  दुनिया अब दूर नहीं।

#gallery-2 {
margin: auto;
}
#gallery-2 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-2 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-2 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

Source: BK Global News Feed

Comment here