Uncategorized

Mount Abu – Media Conference- Cultural Evening at Gyan Sarovar

विभिन्न अंचलों के कलाकारों ने बिखेरे इन्द्रधनुषी रंग

माउंट आबू 14 जून : ज्ञान सरोवर में ब्रह्माकुमारीज के मीडिया प्रभाग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन की प्रथम सांस्कृतिक संध्या में विभिन्न प्रांतों से आये कलाकारों ने अपने अपने आंचल की संस्कृति को गीतों व नृत्यों के माध्यम से उजागर किया। दिल्ली से आई ईशिका, स्नेहा व मनीष ने ये मत कहो खुदा से तुने मुझे क्या दिया है- आध्यात्मिक गीत पर सामूहिक नृत्य प्रस्तुत करते हुए देश के विभिन्न भागों से आये मीडिया कर्मियों को भाव विभोर कर दिया। फरीदाबाद हरियाणा की वंशु ने स्वागत नृत्य प्रस्तुत किया। जिसके बोल थे- चहक उठी हैं वादियां।

#gallery-2 {
margin: auto;
}
#gallery-2 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 50%;
}
#gallery-2 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-2 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

                आयोजकों का कहना था कि नारद मुनि से शुरू हुई पत्रकारिता को वर्तमान 21वीं सदी में प्रतिष्ठित बनाये रखने में सक्रिय मीडिया कर्मियों के आगमन से नैसर्गिक सौंदर्य से भरपूर ज्ञान सरोवर की वादी सचमुच चहक उठी है। कई दिनों से परेशान कर रहे तापमान में बदलाव लाते हुए इन्द्र देवता ने भी अमृतवर्षा की।

                 शिव अनादि कला साधना केन्द्र इंदौर के कलाक ारों ने मलहार तराना नृत्य प्रस्तुत किया। इसके बाद बारी आई चंडीगढ की सिमोनी की जिसने शिव अनादि है, शिव अनंत है, गीत पर नृत्य प्रस्तुत करते हुए अपनी प्रतिभा की लुभावनी छाप दर्शकों पर छोडी। डायमंड डांस गु्रप बिलासपुर, छतीसगढ के कलाकारों ने महापरिवर्तन शीर्षक नृत्य नाटिका के माध्यम से यह संदेश देने का प्रयास किया कि यू एन ओ से सबंधित ब्रह्माकुमारीज संस्था सचमुच ही स्व: परिवर्तन से विश्व परिवर्तन के अभियान को पूरी दृढता से आगे बढा रही है। डिवाइन एन्जिल गु्रप विजयपुरा कर्नाटक के कलाकारों ने सच्चाई शीर्षक कार्यक्रम प्रस्तुत करते हुए प्रभु से जोडो अपनी पहचान, क्रोध का करो त्याग और छोडो अभिमान का संदेश दिया। दिल्ली की नंदिनी ने जब आवो जी घुमादिं खेलबा ना शीर्षक घूमर नृत्य प्रस्तुत किया तो वातानुकूलित हारमनी हाल तालियों की गडगडाहट से गूंज उठा। लोक नृत्य की परंपरा को आगे बढाते हुए इंदौर से आये शिव अनादि कला साधना केन्द्र  के कलाकारों ने विठठल, विठठल शीर्षक लोक नृत्य प्रस्तुत करते हुए सांस्कृतिक संध्या को अविस्मरणीय बना दिया। मंच संचालन आबू पर्वत के जाने माने कवि एवम कलाकार विवेक भाई व बिलासपुर से आई मंजू बहन ने किया। मीडिया प्रभाग के मुख्यालय संयोजक शांतनु भाई  ने बताया कि सम्मेलन 5 दिन तक चलेगा।

Source: BK Global News Feed

Comment here