Uncategorized

International Yoga Day 2019 @ Lake Tosham

तोशाम हरियाणा
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के तोशाम सेवाकेंद्र ,मेडिकल प्रभाग – राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन  और पतांजलि योग समिति ,तोशाम के सयुंक्त तत्वाधान में  अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर “परमात्म ज्ञान द्वारा विश्व परिवर्तन “ विषयक  कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में   योग प्रशिक्षक सतेंदर आर्या जी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्राचीन काल से ही वेदों एवं शास्त्रों में योग का महत्त्व लिखा गया है। योग तो हमारी प्राचीन संस्कृति में शामिल रहा है। योग भारत की परंपरा रहा है। इसका महत्व आज पूरी दुनिया समझने लगी है।  उन्होंने उपस्तिथ जनसमूह को योग के विभिन्न आसन बताते हुए समझाया की किस आसन के प्रयोग से हम किस रोग को ठीक कर सकते हैं। साथ ही उनका महत्व बताते हुए सभी से अभ्यास कराया। इस दौरान  लगभग 150 लोगों ने  उत्साह के साथ योग के आसन किए और इन्हें आगे भी जारी रखने का संकल्प लिया।

#gallery-4 {
margin: auto;
}
#gallery-4 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 50%;
}
#gallery-4 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-4 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

शारीरिक योग और राजयोग मेडिटेशन का महत्व बताते हुए तोशाम शाखा प्रभारी बी के मंजू ने कहा कि शारीरिक योग, प्राणायाम से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है, वहीं राजयोग मेडिटेशन से हमारी आत्मा की शक्तियां जागृत हो जाती हैं। इससे मन शक्तिशाली हो जाता है और मन में सकारात्मक व शुद्ध विचार उत्पन्न होने लगते हैं। उन्होंने कहा की अगर जीवन में सच्चा सुख और शांति चाहिए तो सबसे पहले  नकारात्मक विचारोंको दूर करना होगा।मन में अगर किसी के प्रति इर्षा ,घृणा भाव है तो वो जैसे की किचड़े का डिब्बा है।इसलिए हमें हमेशा सकारात्मक चिंतन करना है।

Source: BK Global News Feed

Comment here