Uncategorized

प्रकृति मानव जीवन का आधार है – सरिता दीदी

पर्यावरण दिवस पर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया

धमतरी। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय धमतरी के तत्वाधान में 5 जून विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में पर्यावरण संरक्षण रैली, सार्वजनिक सभा एवं नुक्कड नाटक का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती रंजना साहू, विधायक धमतरी विधानसभा, श्री अमिताभ वाजपेयी, वन मण्डल अधिकारी, धमतरी, श्री रामू रोहरा भाजपा जिला अध्यक्ष धमतरी, श्री मोहन लालवानी कांग्रेस जिला अध्यक्ष धमतरी, श्री राजेन्द्र शर्मा सभापति नगर पालिक निगम धमतरी, श्री हरमिन्दर छाबडा समाज सेवी धमतरी एवं ब्रह्माकुमारी सरिता दीदी संचालिका ब्रह्माकुमारी सेवाकेन्द्र धमतरी सम्मिलित हुए। कार्यक्रम की शुरूआत दिव्यधाम सिविल लाईन से मकई चैक तक रैली निकाल कर किया गया।
इस अवसर पर सरीता दीदी ने अपने उद्बोधन में कहा कि प्रकृति है तो जीवन है आने वाली पीढी को शुद्ध अन्न, जल, वायु, धरती, आकाश देने की जिम्मेवारी हमारी है। सारे प्रदूषणो में सबसे घातक मानसिक प्रदूषण है मानव मन में व्याप्त स्वार्थ, लोभ, संग्रह करने की प्रवृत्ति ने आज पर्यावरण को नष्ट कर दिया। प्रकृति हमारे आवश्यकताओ की पूर्ति कर सकती है लेकिन लालच को पूरा नही कर सकती। हमारा शरीर भी पांच तत्वो से मिलकर बना हैं हम पर्यावरण की रक्षा नही कर रहे है लेकिन स्वंय की रक्षा कर रहे है। प्रकृति मानव जीवन का आधार है इस आधार को कमजोर करके हम मानव जीवन का उद्धार नही कर सकते। हवा, पानी हरियाली तो सबको चाहिए हम सभी ईश्वर की संतान है तो प्रकृति भी उसकी रचना है तो ईश्वर के रचना की रक्षा जिम्मेदारी भी हर एक की है। पर्यावरण की सुरक्षा किसी एक सरकार, संस्थान या विभाग की नही हर एक की व्यक्तिगत जिम्मेदारी है। इसे समझकर न केवल पेड लगाए लेकिन उसकी रक्षा भी करे।
श्रीमती रंजना साहू, विधायक धमतरी ने कहा कि 1972 मंे सयुक्त राष्ट्र संघ ने प्रकृति के बढते दोहन को देखते हुए 129 देशो के प्रतिनिधीयो के साथ मिलकर पर्यावरण के प्रति बढती चिंता को उनके समक्ष रखते हुए पर्यावरण दिवस की शुरूआत की। बढते जनसंख्या के दबाव में कहीं पर्यावरण दब कर न रह जाए इसलिए हम सभी को अपने घर तथा आसपास के क्षेत्र में पौधा लगाकर इसकी रक्षा की शुरूआत करनी चाहिए।
श्री अमिताभ वाजपेयी, वन मण्डल अधिकारी ने कहा कि प्रकृति का अंधाधुंध दोहन की समस्या का कारण है। हमें अपनी रोजमर्रा की जीवन में बिजली, मोटर वाहन, ईधन, का संयमित उपयोग करना चाहिए। प्रकृति के साधन सीमित है। व्यर्थ की बरबादी से हमें इसे रोकना होगा।
श्री राजेन्द्र शर्मा सभापति नगर पालिक निगम धमतरी, ने कहा की पर्यावरण संकट विश्व की सबसे बडी संकट का विषय है। प्रकृति का प्रकोप सहने की ताकत किसी में भी नही है। पर्यावरण संकट आज मानव जीवन का संकट बनकर रह गया है।
श्री मोहन लालवानी कांग्रेस जिला अध्यक्ष ने कहा कि पर्यावरण के प्रति जागरूकता समय की आवश्यकता है। प्रकृति से खिलवाड करने का नतीजा है आज हमंे शुद्ध हवा, पानी अन्न प्राप्त नही हो रहा है।
श्री रामू रोहरा भाजपा जिला अध्यक्ष ने कहा की पर्यावरण दिवस की सार्थकता तब है जब अपने आसपास दो – दो पौघे हर कोई लगाए और इसकी समुचित देखभाल भी करें। हम मनुष्यो की करनी का फल यह है कि आज हमे 45- 50 डिग्री के तापमान में रहना पड रहा है।
श्री हरमिन्दर छाबडा जी ने कहा की पर्यावरण दिवस एक जन आदोलन के रूप में मनाए ताकि आने वाले पीढीयों को यह संदेश मिले कि हमारे बडे बुजुर्गो ने हमारे लिए पर्यावरण की रक्षा के लिए कार्य किया है।
अंत में नुक्कड नाटक के माध्यम से धमेश भाई, तुरीयानंद भाई, रामचन्द्र भाई, कन्हैया भाई , गौतम भाई ने प्रकृति के रक्षा का संदेश दिया। कार्यक्रम में आए हुए सभी लोगो को पौधे बाटकर उसे अपने घर के पास लगाने को कहा गया। और सबने प्रकृति की रक्षा का संकल्प लिया।

Source: BK Global News Feed

Comment here