Uncategorized

ग्वालियर के द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस

“बीड़ी गुटखा पान तंबाकू यह है जीवन के चार डाकू”

#gallery-1 {
margin: auto;
}
#gallery-1 .gallery-item {
float: left;
margin-top: 10px;
text-align: center;
width: 33%;
}
#gallery-1 img {
border: 2px solid #cfcfcf;
}
#gallery-1 .gallery-caption {
margin-left: 0;
}
/* see gallery_shortcode() in wp-includes/media.php */

ग्वालियर: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय एवं मेडिकल विंग राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन ग्वालियर के द्वारा
विश्व तंबाकू निषेध दिवस के उपलक्ष्य में रेलवे स्टेशन पर व्यसन मुक्ति की प्रदर्शनी लगाई गई जिसका शुभारंभ दीप प्रज्वलन के साथ किया गया जिसमें उत्तर मध्य  रेलवे ग्वालियर के पदाधिकारी श्री एस के मिश्रा (उपमुख्य अभियंता, निर्माण), श्री दीपक चौबे (स्टेशन निदेशक ग्वालियर), पी पी चौबे (स्टेशन प्रबंधक), दिनेश नचरेले (उप स्टेशन प्रबंधक, वाणिज्य) एवं ब्रह्माकुमारीज़ से बी.के. प्रहलाद भाई उपस्थित थे प्रदर्शनी का उद्देश्य लोगों को तंबाकू, गुटखा, बीडी, सिगरेट, शराब आदि से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक करना था बी.के. प्रहलाद भाई ने स्टेशन पर उपस्थित सभी लोगों को बताया  व्यसन एक ऐसा मार्ग है जो धीमे जहर की तरह हमारे शरीर को नष्ट करता है उन्होंने बताया कि आज लोग डिप्रेशन, अनिद्रा, तनाव, बीती हुई दुखद घटनाओं की स्मृति, पारिवारिक कलह, बुरे संग के कारण इन नशीले पदार्थों का सेवन करने लगते हैं। भारत में एक तिहाई कैंसर का कारण तंबाकू है तंबाकू धीमे जहर की तरह कार्य करता है तंबाकू में 4000 रसायनिक तत्व रहते हैं जिसमें 400 रासायनिक तत्व हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं तंबाकू में उपस्थित निकोटिन धीमे जहर की तरह कार्य करता है भारत में प्रतिदिन 2500 से 3000 मौतें तंबाकू के कारण होती है उन्होंने स्पष्ट किया धूम्रपान का हमारे फेफड़ों पर बुरा असर पड़ता है 90% फेफड़े का कैंसर धूम्रपान के कारण होता है धूम्रपान का धुंआ धूम्रपान ना करने वाले  व्यक्तियों के लिए भी 25 % हानिकारक है साथ ही बताया आज विश्व में अधिक मात्रा में शराब का सेवन किया जाता है 60% से अधिक सड़क दुर्घटनाओं का कारण शराब है| लंबे समय तक शराब का सेवन करने से सिरोसिस, मस्तिष्क की कार्यप्रणाली अनियंत्रित और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाती है| उन्होंने कहा व्यसन व्यक्ति के स्वास्थ्य पर तो बुरा प्रभाव डालते ही हैं साथ ही गृह क्लेश का कारण भी बनते हैं। और कई परिवार घर में उपस्थित एक व्यसनी की वजह से बर्बाद हो जाते हैं। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि आज एक नया एडिक्शन इंटरनेट और सोशल साइट्स का भी होता जा रहा है जिससे आज परिवार में दूरियां बढ़ती जा रही है । आज व्यक्ति को चाहिए वह अपने पारिवारिक सदस्यों के लिए समय निकाले और सोशल साइट्स के लिए एक समय निश्चित करे तो इससे भी बचा जा सकता है। साथ ही उन्होंने शरीर में उपस्थित सूक्ष्म व्यसन जैसे काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार, ईर्ष्या, द्वेष आदि से सभी को अवगत कराया और इनसे मुक्त होने के लिये लोगो को रोज मेडिटेशन करने की सलाह भी दी। इस अवसर पर उत्तर मध्य  रेलवे ग्वालियर के पदाधिकारियों ने भी अपनी शुभकामनाएं दी।
प्रर्दशनी सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक लगाई गई जिसमें
संस्थान की ओर से  अनेकनेक भाई एवं बहने उपस्थित थे। प्रदर्शनी में  एक व्यसन मुक्ति पात्र भी रखा गया था जिसमें सैकड़ों लोगों से व्यसन छुड़वाए गए और  शपथ पत्र भी भरवाए गए।

Source: BK Global News Feed

Comment here