Uncategorized

” स्वर्णिम भारत का आधार शाश्वत जैविक योगिक खेती”

 

स्वर्णिम भारत का आधार शाश्वत जैविक योगिक खेती  विषय पर सम्मेलन – (तुमसर ) -कृषि एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा किसानों के सशक्तिकरण हेतु तुमसर तालुका के सिहोरा गांव में स्वर्णिम भारत का आधार शाश्वत जैविक योगिक खेती विषय पर कार्यक्रम किया गया| जिसमें सेवा केंद्र संचालिका ब्र. कु. शक्ति दीदी ने सभी का स्वागत किया साथ ही एक सुंदर नाटक के द्वारा सशक्त किसान की भूमिका को दर्शाया| 
कामठी सेवा केंद्र संचालिका ब्र. कु. प्रेमलता दीदी ने ग्राम विकास विभाग की जानकारी दी और कार्यक्रम की प्रस्तावना देते हुए कहा कि आज के समय में किसानों के जागृति हेतु सरकार विभिन्न योजनाएं बना रही है ब्रह्मा कुमारीज विद्यालय द्वारा किसानों के मनोबल बढ़ाने का कार्य, जीवन में सद्गुणों को लाने का कार्य यह विद्यालय कर रहा है। शुभ संकल्पों के द्वारा एक अच्छे समाज का निर्माण तो व्यक्ति कर सकता है साथ ही शुद्ध, सकारात्मक प्रकरणों द्वारा अपने खेती को भी सुजलाम सुफलाम कर सकता है और इस प्रकार की खेती हजारों भाई बहने कर रहे हैं जिसके सकारात्मक परिणाम मिल रहे हैं ।कई यूनिवर्सिटी में यह अनुसंधान का कार्य चल रहा है ।
मुख्य वक्ता के रूप में कृषि एवं ग्राम विकास प्रभाग  के सदस्य गोंदिया से आए ब्रह्मा कुमार महेंद्र भाई ठाकुर ने कहा कि किसान अन्नदाता हैं। किसान भारतीय संस्कृति और अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है । परंतु आज आधुनिकता की चकाचौंध के कारण वह परेशान हैं । रासायनिक दवाओं तथा कीटनाशकों का अत्याधिक उपयोग यह हमारे खेती को बंजर करता जा रहा है और प्रकृति का संतुलन बिगड़ रहा है । आज जरूरत है कि हम प्राकृतिक संसाधनों का प्रयोग करें। जैसे – गोबर ,गोमूत्र ,पेड़-पौधों-पत्तों  द्वारा निर्मित कीटनाशक दवाओं का प्रयोग करें तो जरूर हम कम लागत में उत्तम खेती कर सकते हैं साथ ही व्यक्ति जब सकारात्मक चिंतन करता है , शुध्द अन्न का स्वीकार करता है , व्यसनो से दूर रहता है तो अपनी खेती को सुचारू रूप से सकारात्मक ऊर्जा दे सकता है ।
भ्राता धनेंद्र तुरकर (सभापती- शिक्षण विभाग जिला परिषद् , भंडारा) ने कहा कि आज मैं इस प्रकार के आयोजन का बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं और इस प्रकार से खेती करने से जरूर हम पर्यावरण की ,धरती माता की रक्षा कर सकते हैं तो मैं भी संकल्प करता हूं कि आज से 2 एकड़ खेती पूरे रीती से योगिक करूंगा और किसानों में जागृति लाने में मदद भी करूंगा। कार्यक्रम में गांव गांव से अनेक लोग पहुंचे थे जैविक योगिक खेती की थीम पर शोभायात्रा भी निकाली गई तथा कार्यक्रम में आदर्श गांव का मॉडल एक छोटे बच्चे ने तैयार किया। साथ ही योगिक खेती द्वारा उत्पादित फल और सब्जियों का प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम में ब्रम्हाकुमारी बहनों द्वारा इस प्रकार की खेती करने के लिए प्रतिज्ञाएं भी कराई गई ।आभार विधि ब्र.कु.प्रतिभा बहन ने किया ।

Source: BK Global News Feed

Comment here